मुरथल में ओशो के जन्मदिवस पर भव्य आयोजन की तैयारी

सोनीपत

युगपुरुष ओशो के जन्मदिवस पर ओशोधारा के मुख्य आश्रम, ओशोधारा नानक धाम, मुरथल में एक भव्य आयोजन किया जा रहा है. जहां ओशो के 85वें जन्मदिवस पर उन्हें श्रद्धा सुमन भेंट किए जाएंगे. ओशोधारा से जुड़े साधक, ओशो के जन्मदिन को बड़ी ही श्रद्धा, उत्साह और धूमधाम से मनाते हैं.

ओशो का जन्म 11 दिसंबर 1931 को हुआ और वो 19 जनवरी 1990 तक भारत और संपूर्ण विश्व के आध्यात्मिक आकाश में एक सूर्य की तरह जगमगाते रहे और अपनी ज्ञान गंगा से अपने भक्तों को सराबोर करते रहे. ओशोधारा से जुड़े साधक ये मानते है कि ओशो एक हिमालय हैं जिनसे आध्यात्म की एक ऐसी गंगा बहती है जिनका प्रवाह आने वाली सदियों तक चलता रहेगा और आने वाली अनेकों पीढ़ियां ध्यान और समाधि की इस गंगा में डुब्की लगाती रहेगी. ओशो एक वैचारिक और आध्यात्मिक क्रांति के अग्रदूत है, जिन्होंने संपूर्ण विश्व में आध्यात्मिक क्रांति की शुरुआत की.

मुरथल में होने वाले इस समारोह में शामिल होने के लिए साधकों में काफी उत्साह है और रविवार शाम साढ़े 6 बजे इस भव्य समारोह की शानदार शुरुआत होगी. इस समारोह को सदगुरु ओशो सिद्धार्थ औलिया, सदगुरु ओशो शैलेंद्र और सदगुरु मां ओशो प्रिया के सानिध्य में आयोजित किया जाएंगा, जहां हजारों की संख्या में साधक बड़ी श्रृद्धा से ओशो का जन्मदिन मनाएंगे.

Share With:
Rate This Article