शिमला में Green Tax वसूलने पर पर्यटन व्यवसायी नाराज, दी चेतावनी

शिमला

टूरिज्म इंडस्ट्री स्टेक होल्डर्स एसोसिएशन ने शिमला नगर निगम द्वारा ग्रीन टैक्स वसूलने के निर्णय के खिलाफ न्यायालय का दरवाजा खटखटाने की चेतावनी दी है. एसोसिएशन ने निर्णय लिया है कि यदि ग्रीन टैक्स वसूलने का निर्णय वापस नहीं हुआ तो इसके खिलाफ आवाज बुलंद की जाएगी और न्यायालय का दरवाजा खटखटाया जाएगा.

एसोसिएशन का कहना है कि शिमला अपने वाहनों में आने वाले पर्यटकों से ग्रीन टैक्स वसूली से शिमला में पर्यटन उद्योग पर असर पड़ेगा. एसोसिएशन के अध्यक्ष एम.के. सेठ ने कहा कि शिमला में पर्यटन उद्योग पहले ही विभिन्न कारणों से प्रभावित हो रहा है.

एसोसिएशन के अध्यक्ष एम.के. सेठ ने कहा कि शिमला में पर्यटन उद्योग पहले ही विभिन्न कारणों से प्रभावित हो रहा है. उन्होंने कहा कि अत्यधिक टैक्स वसूली, आधारभूत ढांचे का अभाव, बिजली-पानी की अधिक दरें, कर्मचारियों के वेतन और बीते कुछ समय से पर्यटकों की आवाजाही में कमी के चलते पर्यटन व्यवसाय पहले ही प्रभावित हो रहा है.

उन्होंने कहा कि एसोसिएशन ने पहले भी शिमला में ग्रीन टैक्स वसूलने के निर्णय का विरोध किया है. उन्होंने कहा कि आधारभूत ढांचे के अभाव के चलते पार्किंग की उचित सुविधा नहीं है और टूरिस्ट कोचिज को शिमला में पार्क करने में दिक्कतें आती हैं, ऐसे में ग्रीन टैक्स वसूली उचित नहीं है.

उन्होंने कहा कि पार्किंग की उचित व्यवस्था न होने की वजह से कुछ राज्यों के ग्रुप ने शिमला को ट्रैवल टूर की लिस्ट से बाहर रखा हुआ है. उन्होंने कहा कि एसोसिएशन ने पर्यटन विभाग से भी इस मामले में हस्तक्षेप करने और मामले को शिमला नगर निगम प्रशासन के समक्ष उठाने की भी मांग की.

Share With:
Rate This Article