संकट में बरनाला के शैलर उद्योग, करीब 160 शैलर उद्योगों का काम ठप

बरनाला

बरनाला के शैलर उद्योग पर संकट के बादल छाए हैं. पिछले 20 दिनों से करीब 260 शैलर उद्योगों का काम ठप पड़ा है. शैलर उद्योग के तैयार चावल गोदामों के बाहर खुले आसमान में पड़े है.

जिला बरनाला की लेबर ने चावल को गोदामों में लगाने से इंकार कर दिया है, जिससे परेशान शैलर मालिक ने डिप्टी कमिश्नर को अपना मांग पत्र सौंपा है, शैलर यूनियन की मानें तो लेबर चावल गोदामों में लगाने के लिए 1500 और 25 रुपए प्रति गाड़ी के हिसाब से रिश्वत मांग रही है.

जिला बरनाला में 3 हजार गाड़ी शैलरों से गोदामों तक पहुंचती हैं, इस हिसाब से रिश्वत का आंकड़ा 5 करोड़ के पार हो जाता है, ऐसे में शैलर यूनियन द्वारा लेबर की मांग पूरी ना करने पर लेबर ने चावल को गोदामों में लगाने से साफ इंकार कर दिया है.

Share With:
Rate This Article