पुतिन ने दी चेतावनी- खबरदार जो मेरे प्लान के बीच कोई आया

मास्को

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने दुनिया को चेतावनी दी है कि कोई उनकी योजना और रूस के हितों में टांग अड़ाने की कोशिश न करे. इसके साथ ही गुरुवार को रूसी युद्धपोतों ने क्रीमिया के पास मोर्चा संभाल लिया है. बुधवार को यूक्रेन ने क्रीमिया के पास वाले इलाकों में मिसाइलें तैनात की थीं. इससे पुतिन नाराज हो गए हैं और उन्होंने अपनी सेनाओं को भी हाई अलर्ट कर दिया है.

यूक्रेन मीडिया ने आशंका जताई थी कि यूक्रेनी मिसाइलों के परीक्षण के समय रूसी सेना उन्हें बीच में ही मार गिराएगी. यूक्रेनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारियाना बेत्सा ने कहा था कि उन्हें रूस से कई दस्तावेज और पत्र मिले हैं जिनमें इस मिसाइल अभ्यास का विरोध किया गया है. गुरुवार को रूस ने काला सागर के प्रायद्वीप क्रीमिया में कई मिसाइलों का एकसाथ परीक्षण भी किया. क्रीमिया यूक्रेन का प्रांत था जिस पर रूस ने मार्च 2014 में अधिकार जमा लिया था.

राष्ट्रपति पुतिन ने क्रेमलिन में अपने सालाना संबोधन में गुरुवार को अमेरिका और यूरोपीय संघ पर जम कर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि किसी भी देश को मेरी योजनाओं और रूसी इलाके में दखल नहीं देने दिया जाएगा. अलबत्ता उन्होंने आतंकियों के खात्मे के लिए अमेरिका से सहयोग का आश्वासन भी दिया.

अमेरिकी चुनाव में गूंजा था रूसी दखल का नारा: अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनाव में राष्ट्रपति बराक ओबामा ने रूस पर राजनेताओं की ई-मेल हैक करने का आरोप लगाया था. डेमोक्रेट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने तो सीधे रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प और पुतिन के बीच साठगांठ के आरोप लगा दिए थे.

पुतिन ने कहा, पिछले कुछ वर्षों में रूस ने भारी विदेशी दबाव झेला है. उन्होंने कहा, ‘सीरिया में हमारे सैनिक बहुत अच्छा काम कर रहे हैं.’ रूसी सैनिक वहां राष्ट्रपति बशर अल-असद का साथ दे रहे हैं जबकि अमेरिका असद विरोधियों का साथ दे रहा है.

Share With:
Rate This Article