सुखराज सिंह की शहादत को सलाम, बटाला में शहीद को दी गई अंतिम विदाई

गुरदासपुर

जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में आतंकी हमले में शहीद हुए सुखराज सिंह को बटाला में अंतिम विदाई दी गई. इस दौरान सैकड़ों लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी और शहीद सुखराज सिंह की अंतिम विदाई में शामिल हुए.

बताया जा रहा है कि कुछ समय पहले ही सुखराज सिंह की पोस्टिंग नगरोटा में हुई थी और वो एक दो दिन में छुट्टी पर घर आने वाले थे. शहीद की मां का कहना है कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है.

उनकी पत्नी का कहना है कि उन्हें पति की कमी तो हमेशा महसूस होगी. लेकिन उन्हें अपने पति की शहादत पर गर्व है. शहीद सुखराज सिंह के पिता भी फौज में थे.

आतंकियों की गोली लगने से शहीद हुआ बटाला का जवान हवलदार सुखराज सिंह 166 रैजीमैंट यूनिट नगरोटा में तैनात था. शहीद सुखराज सिंह अपने पीछे धर्मपत्नी हरमीत कौर, दो बच्चे बेटी शुभप्रीत कौर (7) व बेटा सरगुनदेव सिंह (4) छोड़ गया  है.

उसके पारिवारिक सदस्यों ने बताया कि सुखराज सिंह 6 माह पहले ही इस जगह ड्यूटी पर गया था और मंगलवार 29 नवम्बर की सायं घर छुट्टी आना था, पर किस्मत को कुछ और ही मंजूर था. आज उसके घर मान नगर में अफसोस करने वालों का तांता लगा रहा.

फतेहगढ़ चूड़ियां के नज़दीकी गांव कोटली थाबला का जवान सुखराज सिंह (32) के शहीद होने की खबर जब उसके पुश्तैनी गांव कोटली थाबला में पहुंची तो पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई. गांववासियों ने बताया कि हवलदार सुखराज सिंह 2004 में सेना की 166 आरटी रैंजीमैंट में भर्ती हुआ था.

इस अवसर पर सरपंच दलजीत सिंह, सुखा सिंह पंच, ज्ञान सिंह, रवेल सिंह, जोगिंदर सिंह, रेशम सिंह, परगट सिंह, गुरभेज सिंह, साधू सिंह, बलकार सिंह, इंद्रजीत सिंह, प्रकाश सिंह, तेजिंदर सिंह, सुरिंदर सिंह, दविंदर कौर व सविंदर कौर आदि मौजूद थे.

Share With:
Rate This Article