SYL मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार को भेजा नोटिस, यथास्थिति बरकरार रखने के निर्देश

SYL मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार को भेजा नोटिस, यथास्थिति बरकरार रखने के निर्देश

दिल्ली

सतलुज यमुना लिंक (एसवाईएल) मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार को यथास्थिति बनाए रखने का निर्देश दिया है और कोर्ट ने सरकार के लिए नोटिस जारी किया है. सुप्रीम कोर्ट ने तीनों रिसीवरों से भी ग्राउंड रिपोर्ट फाइल करने के लिए कहा है, इसमें केंद्रीय गृह सचिव, डीजीपी पंजाब और चीफ सेक्रटरी शामिल हैं. मामले की अगली सुनवाई 15 दिसंबर को होनी है. गौरतलब है कि एसवाईएल मामले में कोर्ट ने टर्मिनेशन ऑफ अग्रीमेंट एक्ट 2004 को असंवैधानिक बताया था.

कोर्ट के फैसले का संदेश यह था कि सतलुज यमुना लिंक नहर बनेगी, जिससे हरियाणा को पानी मिलेगा. इस पर पंजाब सरकार ने विरोध जताया था, साथ ही केंद्र सरकार और राष्ट्रपति से मामले में दखल देने की मांग की थी. इसके ठीक बाद फैसले से नाराज पंजाब कांग्रेस के सभी 42 विधायकों ने विधानसभा से इस्तीफा दे दिया.

पंजाब किसी कीमत पर एक बूंद किसी को भी न देने का ऐलान कर चुका है, बल्कि एसवाईएल नहर के लिए अधिग्रहित की गई जमीन को डीनोटिफाई कर इसे वापस किसानों को सौंपने की प्रक्रिया तेज करवा दी. इधर, हरियाणा ने पंजाब के कदमों पर नजर रखते हुए अपने स्तर पर कदम उठाए. हरियाणा की याचिका पर ही सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार को नोटिस जारी किया है.

हरियाणा चाहता था कि एसवाईएल की जमीन बचाने के लिए सुप्रीम कोर्ट रिसीवर नियुक्त करे. इसलिए हरियाणा ने याचिका दी थी. हरियाणा नहीं चाहता कि आधी बनी हुई नहर को कोई नुकसान पहुंचे. केंद्र सरकार ने 2004 में एक कमिटी गठित की थी, लेकिन इस नहर के निर्माण के लिए कुछ किया नहीं गया. हरियाणा ने पंजाब सरकार पर कोर्ट के आदेश का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment