RBI ने दी सशर्त में ढील, खत्म हुई 24000 रुपये हर हफ्ते निकासी की सीमा

RBI ने दी बड़ी राहत, अब बैंक से निकाल सकेंगे 24 हजार रुपये से ज्यादा

मुंबई

अब आप नकदी किल्लत से राहत की उम्मीद कर सकते हैं. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने 29 नवंबर से बैंक निकासी की मौजूदा सीमा खत्म कर दी है. हालांकि, शर्त यह है कि यह राशि नए लीगल टेंडर या 29 नवंबर के बाद जमा की गई हो.

ऐसा माना जा रहा है कि सैलरी की तारीख नजदीक आने की वजह से RBI ने यह राहत दी है. नोटबंदी के बाद एक हफ्ते में अधिकतम 24 हजार रुपये निकासी की सीमा तय कर दी गई थी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपये नोट को लीगल टेंडर से बाहर कर दिया था. इसके बाद कैश की किल्लत होने पर सरकार ने निकासी की सीमा तय कर दी थी. पहले यह सीमा एक दिन में 10 हजार रुपये और हफ्ते में अधिकतम 20 हजार रुपये तय की गई, जिसे बाद में बढ़ाकर 24 हजार रुपये किया गया. इसके अलावा किसानों और छोटे व्यापारियों के लिए भी नियमों में ढील दी गई.

रविवार को ही रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने नोटबंदी पर चुप्पी तोड़ते हुए कहा था कि कैश की कोई किल्लत नहीं है. उन्होंने कहा था कि आम लोगों की परेशानियों को दूर करने की पूरी कोशिश की जा रही है और जल्दी ही स्थिति सामान्य हो जाएगी.

बताया जा रहा है अब तक राशि की पहले जांच की जाएगी. उन अकाउंट्स को खंगाला जा रहा है जिनमें नोटबंदी के बाद अचानक बड़ी राशि जमा की गई. जनधन खातों में भी जमा राशि बढ़कर 70 हजार करोड़ रुपये से अधिक हो चुकी है.

नोटबंदी के बाद बैंकों में 500 और 1,000 के पुराने नोटों में कुल 8.45 लाख करोड़ रुपये जमा हुए हैं या बदले गए हैं. यह आंकड़ा 27 नवंबर तक का है. रिजर्व बैंक ने एक बयान में यह जानकारी दी. केंद्रीय बैंक ने कहा कि इस दौरान बैंकों ने काउंटर और एटीएम के जरिए 2.16 करोड़ रुपये वितरित किए हैं. 33,948 करोड़ रपये के पुराने नोट बदले गए हैं. लोगों ने बैंक काउंटरों या ATM के जरिए 2,16,617 करोड़ रुपये निकाले हैं.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment