दिल्लीः गर्लफ्रेंड के चक्कर में ले ली बड़े भाई की जान

दिल्ली

उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी इलाके में एक युवक द्वारा बहस के बाद अपने बड़े भाई और संस्कृत के असिस्टेंट प्रोफेसर (लेक्चरर) की डंबल से पीट-पीटकर हत्या कर डालने की ख़बर है. पुलिस ने बताया कि 27 नवंबर की देर रात पीजीडीएवी कॉलेज में संस्कृत के प्रवक्ता हितेश वर्मा की उसके छोटे भाई 23-वर्षीय हिमांशु ने कथित तौर पर पीट-पीटकर हत्या कर दी. घटना उस घर में हुई, जहां वे दोनों किराये पर रहा करते थे.

पुलिस के मुताबिक, उन्हें रात करीब 3 बजे नाले में एक शव पड़ा होने की सूचना मिली थी, और शव की शिनाख्त जल्द ही हो गई. पुलिस ने बताया, “पहचान होने पर पुलिस ने मृतक के भाई से बात की, जिसने एक मनगढ़ंत कहानी सुनाई… उसने पुलिस को बताया कि दो लोग उनके घर में घुसे और उसके भाई की हत्या कर दी…”

शिवाजी कॉलेज में संस्कृत में ही एमए की पढ़ाई कर रहे हिमांशु की इस कहानी में पुलिस को खामियां दिखीं. पुलिस के अनुसार, घर में अंदर आने का केवल एक रास्ता है, जो भूतल पर है, और वहीं मकान मालिक रहता है. मकान मालिक ने पुलिस को बताया कि किसी ने मकान में प्रवेश नहीं किया था. जिस कमरे में दोनों भाई रहते थे, उसका दरवाजा भी बंद था और बलपूर्वक प्रवेश के कोई संकेत नहीं थे.

इसके बाद कड़ाई से पूछताछ करने पर हिमांशु टूट गया और उसने सच्चाई बयान की. उसने बताया कि उसने हत्या में इस्तेमाल हथियार (कसरत करने वाला डंबल) अपने बिस्तर के नीचे छिपाया था, जिसे बरामद कर लिया गया है. हिमांशु ने पुलिस को बताया कि उसका भाई हमेशा उसे ऐसे काम करने के लिए बाध्य करता था, जो उसे पसंद नहीं थे.

पुलिस के अनुसार, “हिमांशु ने बताया, हितेश अपने दोस्तों को घर लाता रहता था, और अक्सर उसे घर से बाहर जाने के लिए कहा करता था… हितेश के ताल्लुकात एक लड़की से थे, और जब भी हितेश अपनी गर्लफ्रेंड को घर लाया करता था, वह हिमांशु से बाहर जाने के लिए कहा करता था… हालिया दिनों में हितेश अक्सर हिमांशु को घर से बाहर जाने के लिए कहने लगा था…”

पुलिस अधिकारी ने बताया, 27 नवंबर की रात को भी हितेश ने हिमांशु से कहा कि उसे घर से बाहर चले जाना चाहिए, क्योंकि उसकी गर्लफ्रेंड आने वाली है, लेकिन हिमांशु के सर्दी होने की वजह से बाहर जाने से मना कर देने पर दोनों में झगड़ा हो गया. गुस्से में छोटे भाई ने डंबल उठाकर बड़े भाई की हत्या कर डाली.

पुलिस ने बताया कि हिमांशु और हितेश के माता-पिता झांसी में रहते हैं. दोनों भाई दो महीने में एक बार अपने माता-पिता से मिलने जाया करते थे. उन्हें घटना की सूचना दे दी गई है, और वे दिल्ली आ रहे हैं, जिसके बाद पोस्टमॉर्टम किया जाएगा.

Share With:
Rate This Article