अलेप्पो: 7 साल की बच्ची ने ट्विटर पर लिखा आखिरी संदेश, ‘बचने की उम्मीद नहीं’

अलेप्पो

सीरिया के अलेप्पो शहर में चल रही जंग और यहां होने वाली तबाही किसी से छिपी नहीं रही है. यहां पर हर रोज कई लोग मारे जाते हैं, जिनमें कई बच्चे भी शामिल होते हैं. यहां कब किसकी सांसे थम जाएंगी, कोई नहीं बता सकता है. इस दर्द का मंजर अलेप्पो में यह सब मंजर देख रही एक बच्ची ने ट्वीटर पर अपने मैसेज में बयान किया है.

इस बच्ची का नाम बाना अलाबेद है. अपने अभी तक के आखिरी ट्वीट में उसने लिखा है कि उसका घर वहां पर हुए हवाई हमले में ढह गया है और वह खुद मलबे में दबी थी, लेकिन बाद में जिंदा बाहर निकल आई. इस दौरान उसको कुछ चोटें भी आई हैं. उसने एक ट्वीट में इस डर को भी बयां किया है जो हवाई हमले के कारण पैदा हुआ है. इसमें उसने लिखा है कि वह अब जिंदा नहीं बच पाएगी. उसने ट्वीट में यहां तक लिखा है कि वह मरना नहीं चाहती है, बल्कि जिंदा रहना चाहती है.

बाना लगातार ट्वीटर पर मैसेज कर वहां की जानकारी दे रही है. उसने एक ट्वीट में यह भी लिखा है कि उसके लिए दुआ की जाए कि वह जिंदा बच सके. लेकिन यदि वह मर गई तो उन लोगों के सकुशल रहने की कामना करें जो यहां मौजूद हैं. वह पिछले कुछ माह से लगातार वहां की दुर्दशा की जानकारी ट्वीटर पर दे रही है. उसने कुछ वीडियो भी अपलोड किए हैं जिसमें इमारतों से धुंआ निकलता हुआ दिखाई दे रहा है.

उसके ट्वीट में विद्रोहियों के कब्ज़े वाले इलाकों पर सरकारी फौजों की बमबारी का ऐसा ज़िक्र है, जिसे पढ़कर किसी की भी रूह कांप जाएगी. अब तक उसके फॉलोअरों की गिनती 1,37,000 हो चुकी है। रॉयटर से बातचीत में बाना की मां ने बताया है कि उसका घर बर्बाद हो चुका है और उनका परिवार अब पड़ोसियों के साथ रह रहा है. वे दूसरा घर तलाश कर रहे हैं.

Share With:
Rate This Article