नाभा जेलब्रेकः यूपी से हुई पहली गिरफ्तारी, भारी मात्रा में हथियार बरामद

नाभा जेलब्रेकः यूपी से हुई पहली गिरफ्तारी, भारी मात्रा में हथियार बरामद

शामली

नाभा जेल कांड में पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. उत्तर प्रदेश के शामली से परविंदर सिंह नाम के एक शख्स को पुलिस ने गिरफ्तार किया. गिरफ्तार शख्स के पास से पुलिस ने हथियार और जिंदा कारतूस भी बरामद किए है.

बताया जा रहा है कि गिरफ्तार परविंदर सिंह ने जेल ब्रेक करने में बड़ी भूमिका निभायी थी. यूपी एडीजी लॉ एंड ऑर्डर दलजीत चौधरी ने बताया कि गिरफ्तार परविंदर सिंह इसी जेल से करीब डेढ़ महीने पहले भागा था.

परमिंदर को इस जेल के बारे में काफी अच्छे से पता था. वह करीब डेढ़ महीने पहले भी इस जेल से भागा था. परमिंदर की शामली से गिरफ्तारी के बाद पुलिस की कई और गाड़ियां आसपास के इलाकों में बाकी फरार कैदियों की तलाश कर रही है. बता दें कि पंजाब में अतिसुरक्षित माने जाने वाले नाभा जेल पर रविवार सुबह 10 हथियारबंद हमलावरों ने हमला कर खालिस्तान लिबरेशन फोर्स के एक आतंकी समेत 6 अपराधियों को लेकर फरार हो गए थे.

यूपी के एडीजी (लॉ ऐंड आर्डर) दलजीत सिंह चौधरी ने बताया कि परमिंदर सिंह को भारी मात्रा में हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया और उसने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया है. उन्होंने कहा कि घटना के बाद से ही उत्तर प्रदेश में हाई अलर्ट था क्योंकि जानकारी मिली थी कि आरोपी नेपाल की तरफ भागे हैं.

इस बीच भागे हुए कैदियों को पकड़ने के लिए पंजाब के अलावा उत्तर भारत के कई राज्यों की पुलिस को हाई अलर्ट पर रखा गया है. रिपोर्ट के मुताबिक हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली की पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है. इन राज्यों की सीमाओं पर भी चौकसी बढ़ा दी गई है और हर गाड़ी की तलाशी ली जा रही है.

इस बीच जेल हमले पर राज्य सरकार ने कार्रवाई करते हुए डीजी (जेल) समेत कई वरिष्ठ अधिकारियों को निलंबित कर दिया है. जेल से फरार अपराधियों में हरमिंदर मिंटू को पंजाब पुलिस ने IGI एयरपोर्ट से 2014 में गिरफ्तार किया था. मिंटू 2008 में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम और हलवाड़ा एयरफोर्स स्टेशन पर हमले समेत कई आतंकी घटनाओं में शामिल रहा है. पंजाब पुलिस के अनुसार हरमिंदर 2010 में यूरोप भी जा चुका है। 2013 में उसने पाकिस्तान छोड़ा था.

पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने इसकी जांच करने के आदेश एडीजीपी को देते हुए तीन दिनों में जांच पूरी करने को आदेश दिया और कहा कि तीन दिनों में जांच पूरी करके गृह सचिव के हवाले कर दी जाए.

सुखबीर बादल ने अमृतसर में पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कहा कि पंजाब पुलिस भगौड़े कैदियों का पीछा कर रही है और जल्द ही वे पुलिस की गिरफ्त में होंगे. बादल ने कहा कि पंजाब की जनता को किसी प्रकार के डर या चिंता की जरूरत नहीं है। पुलिस पूरी तरह सतर्क है.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment