गुरुग्राम: गांववालों ने तेंदुए को पीट-पीटकर उतारा मौत के घाट, 9 लोगों पर किया था हमला

दिल्ली

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे साइबर सिटी गुरुग्राम के मंडावर गांव में ग्रामीणों ने एक तेंदुए को पीट-पीटकर मार डाला. इससे पहले गुरुवार को इंसानों और तेंदुए के बीच करीब तीन घंटे तक पकड़ा-पकड़ी का खेल चलता रहा. आखिरकार लोगों ने जाल फेंककर तेंदुए को पकड़ लिया और उसे पीट-पीटकर मार डाला.

बताया जा रहा है कि इस तेंदुए ने गांव के 9 लोगों पर जानलेवा हमला कर दिया था. घायलों में एक पुलिसकर्मी भी शामिल है. गुरुवार की सुबह ग्रामीणों ने मंदावर में सबसे पहले तेंदुए को देखा था.

गुरुग्राम के वन्य जीव संरक्षक ने बताया, आज सुबह तेंदुआ गांव में घुस आया और एक खटिए के नीचे जा छिपा. इसके बाद वह एक जगह से दूसरी जगह पर भागता रहा. इस दौरान तेंदुए ने गांव के कुछ जानवरों पर भी हमला बोला. तेंदुए के डर से गांव वालों ने अपने को घरों में बंद कर लिया और अपने साथ लाठी-डंडे और लोहे के रॉड पकड़ लिए ताकि तेंदुए के हमला करने की सूरत में बचा जा सके.

तेंदुए की खबर पाकर पड़ोस के गांव कासां की धानी और सुखरोली के करीब डेढ़ हजार लोग लाठी, डंडा और पत्थर लिए आ जमा हुए ताकि तेंदुए को मार गिराया जाय. इसके बाद करीब तीन घंटे तक ग्रामीणों द्वारा खदेड़े जाने के बाद तेंदुआ एक कोने में जा छिपा, जहां पुलिस और वन्य जीव अधिकारियों की मौजूदगी में ग्रामीण मारते-पीटते और घसीटते हुए उसे मुख्य सड़क पर ले आए और उसे पीट-पीटकर मार डाला.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया, तेंदुए ने जिन 9 लोगों को घायल किया था उनका सोहना के नजदीक सिविल अस्पताल में इलाज चल रहा है. ग्रामीणों का आरोप है कि मौके पर पहुंचे पुलिस और वन विभाग के अधिकारियों के पास हालात से निबटने के लिए सही औजार नहीं थे.

Share With:
Rate This Article