पानीपत से जालंधर 291 किलोमीटर की सिक्स लेनिंग प्रोजेक्ट में देरी

पानीपत-जालंधर सिक्स लेन में देरी पर साेमा कंपनी को पांच लाख का जुर्माना

चंडीगढ़
पानीपत से जालंधर 291 किलोमीटर की सिक्स लेनिंग प्रोजेक्ट में देरी पर पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने निर्माण करने वाली कंपनी सोमा आइसोलैक्स पर पांच लाख रुपये जुर्माना लगाया है, जस्टिस महेश ग्रोवर और जस्टिस डॉ. शिखर धवन की खंडपीठ को सुनवाई के दौरान बताया गया कि सुप्रीम कोर्ट ने प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए 31 मार्च 2015 की समय सीमा तय की थी.
बावजूद इसके प्रोजेक्ट को पूरा नहीं किया गया है, सुनवाई के दौरान सोमवार को कहा गया कि 22.1 किलोमीटर को लेकर आर्बिट्रेशन प्रक्रिया चल रही है, ऐसे में प्रोजेक्ट को पूरा करने में देरी हो रही है बेंच ने इस दलील पर असहमति जताते हुए कहा कि यह दलीलें स्वीकार नहीं की जा सकती.

खंडपीठ ने 18 जनवरी के लिए सुनवाई तय करते हुए प्रोजेक्ट पर प्रोग्रेस रिपोर्ट तलब की है, हाईवे को चौड़ा करने का काम मई 2008 से आरंभ किया गया था, प्रोजेक्ट डिजाइन बिल्ड फाइनेंस आपरेट (डी बीएफओ) आधार पर शुरु किया गया था, नवंबर 2011 में इस काम को पूरा करने की अवधि तय की गई थी.

पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने प्रोजेक्ट पूरा करने में देरी के लिए जिम्मेदार कंपनी पर मई 2013 में 60 करोड़ रुपये की पेनल्टी लगाई थी, इस फैसले के खिलाफ कंपनी ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के इस फैसले को खारिज कर दिया था.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment