दिल्ली: नोटबंदी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे मनीष सिसोदिया और दो मंत्री हिरासत में लिए गए

दिल्ली: नोटबंदी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे मनीष सिसोदिया और दो मंत्री हिरासत में लिए गए

दिल्ली

उपमुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया को दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को हिरासत में ले लिया. वह नोटबंदी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे. मनीष सिसोदिया के साथ आप नेता कपिल मिश्रा को भी हिरासत में लिया गया. दोनों लोग अपने समर्थकों के साथ नोटबंदी के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए संसद की तरफ आ रहे थे.

इससे पहले सिसोदिया ने नजफगढ़ के उस परिवार से मुलाकात की थी, जिसके एक सदस्य की मौत कथित तौर पर बैंक की लाइन में लगे-लगे हो गई थी. सिसोदिया ने वहां पर पीएम मोदी के फैसले की निंदा भी की थी.

सिसोदिया ने ट्विटर पर लिखा था, ‘मोदी जी आप कहते हो नोटबंदी से आम आदमी चैन की नींद सोएगा. आँख खोलकर देखिए – वो मौत की नींद सो रहा है. रोज़ाना लोग मर रहे हैं. आतंकवादियों के पास 2000 के नोट हैं, रिश्वत नए नोटों में ली-दी जा रही है, 10 दिन में ही नकली नोट बाज़ार में आ गए. जिन लोगों ने आपको 25-40 करोड़ दिए उनके सबके नोट बदल गए और आप आंसू बहा रहे हैं. फैसला वापस लीजिए मोदी जी.’

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट के जरिए नोटबंदी के फैसले पर निशाना साधा था. सोमवार को किए गए ट्वीट में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) द्वारा शादी वाले परिवार के लिए 2.5 लाख रुपए निकालने के लिए जो नई गाइडलाइन बनाई गई हैं, उसे निशाना बनाया गया था. इसपर केजरीवाल ने लिखा, ‘सालियों को जूता चुराई के रुपए देंगे तो सालियों की लिस्ट बैंक को दें और साबित करें कि सालियों का बैंक अकाउंट नहीं हो. सालियां रसीद देंगी.’

गौरतलब है कि मोदी सरकार द्वारा 8 नवंबर को नोटबंदी का ऐलान किया गया था. उसमें बताया गया था कि 500 और 1000 के नोट 30 दिसंबर 2016 के बाद से नहीं चला करेंगे. इसके साथ ही 2000 और 500 रुपए के नए नोटों के आने की जानकारी भी दी गई थी. तब से ही बैंक और एटीएम के बाहर लोगों की लाइन खत्म होने का नाम नहीं ले रही है. लोग अपने नोट बदलवाने के लिए बैंकों के चक्कर काटने को मजबूर हैं.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment