सुप्रीम कोर्ट पहुंची हरियाणा सरकार, मोहाली-रोपड़ में रातभर जमीन वापसी

सुप्रीम कोर्ट पहुंची हरियाणा सरकार, मोहाली-रोपड़ में रातभर जमीन वापसी

रोपड़

सतलुज-यमुना लिंक (एसवाईएल) नहर को लेकर हरियाणा सरकार एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंची, गुरुवार को याचिका दायर कर कहा- ‘पंजाब सरकार को आदेश दिया जाए कि नहर के लिए एक्वायर जमीन वापस लौटाने से रोका जाए।’ कोर्ट ने याचिका स्वीकार कर ली, जिस पर 21 नवंबर को सुनवाई होगी.

इधर पंजाब में शाम 7 बजे तक सब शांत था, उसके बाद एसवाईएल से संबंधित चारों जिलों रोपड़, पटियाला, फतेहगढ़ साहिब, मोहाली में सरकार से आदेश पहुंचे कि किसानों के नाम इंतकाल शुरू किए जाएं, पटियाला-फतेहगढ़ साहिब में तो इंतकाल शुरू नहीं हुए, लेकिन रोपड़ में सात बजे तहसीलदार समेत सारा स्टाफ पहुंच गया.
इसी तरह, मोहाली जिले में 8:30 बजे इंतकाल शुरू हुए 12 बजे तक 67 हो चुके थे। कुल 230 इंतकाल होने हैं। काम 12 बजे के बाद भी जारी रहा। अफसरों ने कहा-‘हमे रातभर में किसी भी तरह काम निपटाने के आदेश हैं, इसलिए एक-एक किसान नहीं, बल्कि पूरे गांवों का एक साथ इंतकाल कर रहे हैं।’ चारों जिलों में 5314 एकड़ जमीन वापस की जानी है.
रोपड़ में जमीन लौटाने का काम देर शाम नोटिफिकेशन की कॉपी मिलने के साथ ही शुरू हो गया। पहला इंतकाल गांव शांतपुर के किसान गुरनाम सिंह, जगजीत सिंह, अमरजीत सिंह पुत्र करनैल सिंह सिंह के नाम पर हुआ, जगजीत सिंह ने बताया उनकी करीब पौने सात एकड़ जमीन एसवाईएल के लिए एक्वायर हुई थी। जगजीत सिविल अस्पताल रोपड़ में सुपरिंटेंडेंट हैं। उन्होंने कहा कि अब किसी भी हाल में जमीन सरकार को नहीं देंगे.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment