भारत-इजराइल कई मोर्चो पर संबंध बनाने के लिए प्रतिबद्ध- PM मोदी

दिल्ली

इजराइल के राष्ट्रपति रियूवेन रिवलिन के 8 दिन के भारत दौरे का आज दूसरा दिन है. इस दौरान भारत और इसराइल के बीच समझौतों का आदान प्रदान हुआ. दोनों देशों की सयुंक्त प्रेस वार्ता में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इजराइल के राष्ट्रपति का स्वागत करना हमारे लिए सम्मान की बात है. दोनों देशों की साझेदारी बहु-आयामी है. रक्षा संबंधों सहित कई अहम मुद्दों पर दोनों देशों की भागीदारी अहम है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि पढ़ाई के लिए इजराइल जाने वाले भारतीय छात्रों की बढ़ती संख्या हमारी भागीदारी के निर्माण में एक महत्वपूर्ण पुल साबित होगी. हम राजनयिक संबंधों की स्थापना में 25 साल मील के पत्थर की दृष्टिकोण से देखते हैं. आज दोनों देश कई मोर्चों पर अपने संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. दोनों देशों के बीच व्यापार संबंधों का निर्माण इस अवसर का उपयोग करने के लिए निजी क्षेत्र धारकों दोनों प्रोत्साहित करेगा.

आतंकवाद के मुद्दे पर पीएम मोदी ने कहा कि हम मानते हैं कि आतंकवाद की कोई सीमा नहीं है. यह एक वैश्विक चुनौती है. पीएम ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि अफसोस की बात है कि आतंकवाद के मूल और प्रसार का एक देश भारत के पड़ोस में है. हम मानते हैं कि अंतरराष्ट्रीय समुदायों को आतंकी नेटवर्क के खिलाफ संकल्प के साथ कार्य करना चाहिए. आतंकवाद के खिलाऱफ कार्य करने की विफलता और चुप्पी आतंकवाद को प्रोत्साहित करती है.

इस दौरान इजराइल के राष्ट्रपति ने भारत की मेजबानी पर कहा कि मैं अपनी दिल की गहराई से आपका धन्यवाद करना चाहता हूं. आपके इस खूबसूरत देश में मुझे घर जैसा अनुभव हुआ है. उन्होंने आगे कहा कि इजराइल और भारत को आतंक से धमकी मिलती है क्योंकि हम स्वतंत्रता के मूल्यों को बनाए रखना चाहते हैं.

इजराइल के राष्ट्रपति ने कहा कि भारत दोनों को ही आज आतंकवाद से बड़ा खतरा है, क्योंकि दोनों ही आजादी की कीमत जानते हैं. उन्होंने कहा कि इसके खिलाफ कुछ न कहने वाले देश इसको बढ़ावा ही देते हैं. रिवलिन ने कहा कि भारत और इजराइल दोनों ही आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होकर लड़ने के लिए तैयार हुए हैं.

Share With:
Rate This Article