गलत फहमी की वजह से झज्जर का युवक छत्तीसगढ़ में शहीद, पूरा गांव गम में डूबा

गलत फहमी की वजह से झज्जर का युवक छत्तीसगढ़ में शहीद, पूरा गांव गम में डूबा

झज्जर

छत्तीसगढ़ में उग्रवादियों से लोहा लेते हुए हरियाणा का एक और आईटीबीपी जवान शहीद हो गया, मंगलवार को दीपक का पार्थिव जब गांव आया तब हर आंख नम थी दीपक ने अपनी तीनों बहनों ममता, सीमा व स्वदेश से वादा किया था कि वो भैया दूज पर गांव आएगा.

इस बारे में उसने पहले ही फोन पर जानकारी दी थी परिवार वाले उसके घर आने का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे, लेकिन तिरंगे से लिपटा उसका शव घर पहुंचा, दिवाली की रात जब आतिशबाजी का शोर हो रहा था तभी उग्रवादियों ने कैंप में फायरिंग की, इससे पहले सेना को लगा कि ये गोलियों की नहीं पटाखों की आवाज है, इसी गलत फहमी के कारण दीपक शहीद हो गया.

दिवाली की रात छत्तीसगढ़ के बसैली में शहीद हुए दीपक का मंगलवार को तिरंगे में लिपटा शव जैसे ही सेना के जवान गांव में लेकर पहुंचे, पूरा गांव गमगीन हो गया, जवान का शव देख शहीद की मां शकुंतला, तीनों बहनें तथा फैमिली वाले बेसुध हो गए.

शव उनके घर लाया गया जहां सबने उनके अंतिम दर्शन किए इसके बाद शहीद का शव राजकीय सम्मान के साथ पंचतत्व में विलीन हो गया.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment