ग्रीन शेड में ही की जाएगी आर्थो के मरीजों की जांच, बनाए जा रहे हैं चार कैबिन

ग्रीन शेड में ही की जाएगी आर्थो के मरीजों की जांच, बनाए जा रहे हैं चार कैबिन

शिमला

आईजीएमसी में हड्डियों के मरीजों को अब जांच के लिए पुराने अस्पताल भवन स्थित आर्थो ओपीडी में पहुंचने की जरूरत नहीं रहेगी. अस्पताल प्रशासन जल्द ही आर्थो ओपीडी को आईजीएमसी के मुख्य गेट के पास बने ग्रीन शेड में शिफ्ट करने की तैयारी कर रहा है. आईजीएमसी का नया भवन बनने तक ये ओपीडी ग्रीन शेड में ही चलाई जाएगी.

नए भवन में आर्थो ओपीडी शिफ्ट होने के बाद मरीजों को सभी सुविधाएं मिलेंगी. पुरानी आर्थो ओपीडी नए भवन निर्माण कार्य में बाधा उत्पन कर रही थी. इस चलते लोक निर्माण विभाग ने आर्थो ओपीडी को डिस्मेंटल करने की मांग की थी, ताकि उनका काम निर्बाध चलता रहे.

ग्रीन शेड में आर्थो ओपीडी के चार कैबिन बनाए जा रहे हैं. इनका काम इन दिनों चला हुआ है. आगामी 2 से 3 दिनों में यह काम पूरा कर दिया जाएगा. इसके बाद आर्थो ओपीडी को शिफ्ट कर दिया जाएगा.

आईजीएमसी अस्पताल के बन रहे नए भवन की बिल्डिंग तैयार होकर पुराने आर्थो ओपीडी तक पहुंच गई है. इसके चलते आर्थो ओपीडी को तोड़कर नए भवन की मंजिल बनाई जाएगी. इसके चलते अस्पताल प्रशासन ने पुरानी ओपीडी को डिस्मेंटल करने का निर्णय लिया है.

मौजूदा समय में आर्थो ओपीडी में जगह कम होने से मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था. छोटे-छोटे पांच-छह कमरों की ओपीडी में न तो डॉक्टरों के लिए बैठने की जगह थी और न ही मरीजों को खड़े होने और बैठने के लिए जगह.

ओपीडी में 10 से अधिक मरीज पहुंच जाते हैं तो ओपीडी में चलने के तक की जगह नहीं रहती थी. अस्पताल प्रशासन के आर्थो ओपीडी ग्रीन शेड में शिफ्ट करने से मरीजों और तीमारदारों को परेशानी हो सकती है.

अस्पताल की ओर से मरीजों और तीमारदारों को ठहरने और बैठने के लिए ग्रीन शेड बनाया गया था, लेकिन अब ग्रीन शेड के कुछ भाग में आर्थो ओपीडी में कैबिन बना दिए गए हैं. इससे यहां पर जगह कम हो जाएगी. इससे यहां पर लोगों को परेशानी का सामना भी करना पड़ेगा. हालांकि अस्पताल प्रशासन खाली जगह पर मरीजों को बैठने और रहने की परमिशन दी है.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment