ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ने संन्यास के बाद की थी आत्महत्या की कोशिश

दिल्ली

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के पूर्व स्पिन गेंदबाज ब्रेड हॉग ने अपनी आत्मकथा ‘द रॉन्ग अन’ प्रकाशित कर बेहद ही सनसनीखेज खुलासा किया है. हॉग के इस खुलासे से पूरा क्रिकेट जगत सकते में आ गया है.

हॉग ने अपनी किताब में खुलासा किया की जब उन्होंने अंतरराष्ट्रिय क्रिकेट को अलविदा कहा उसके बाद वो डिप्रेसन में चले गए थे और उन्होंने आत्महत्या तक करने की कोशिश की थी.

हॉग के इन खुलासों ने सबको झकझोर कर रख दिया. आत्महत्या की कोशिश के बारे में हॉग ने कहा कि “मैंने अपनी कार को पोर्ट बीच पर लगाया और एक लम्बी वाक पर जाने की सोचा, फिर मैं एक समुद्र के किनारे जाकर बैठ गया और ये सोचने लगा कि मैं इसकी तह तक चला जाऊ मैं उस वक्त ऐसी हालत में था कि मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था, मैंने उसी हालत में आत्महत्या करने की भी कोशिश की”

अपनी किताब के एक अध्याय ‘द कोलैप्स’ में उन्होंने क्रिकेट जगत के अनचाहे संन्यास को लेकर काफी दुखी होने के बारे में भी कहा है, इसके बाद उन्होंने करीब एक साल तक क्रिकेट ना देखने का भी फैसला किया और खुद को क्रिकेट से दूर रखा.

ब्रेड हॉग ने 2008 में क्रिकेट के सभी फॉर्मेट को अलविदा कह दिया था. ऑस्ट्रेलिया की ओर से खेलते हुए हॉग ने 7 टेस्ट और 123 वनडे मैच खेला है. टेस्ट क्रिकेट में हॉग ने 3.67 के इकॉनमी रेट से 17 विकेट अपने नाम किया जबकि वनडे में 4.5 के इकॉनमी रेट से 156 विकेट हासिल किए.

इसके अलवा हॉग कई क्रिकेट लीग के साथ भी जुड़े है. 45 साल के हॉग आईपीएल में कोलकाता नाइट राइडर्स की टीम ओर भी खेलते हैं.

Share With:
Rate This Article