भोपाल सेंट्रल जेल से भागे 8 सिमी आतंकी मुठभेड़ में ढेर, CM ने कहा- NIA करेगी जांच

भोपाल सेंट्रल जेल से भागे 8 सिमी आतंकी मुठभेड़ में ढेर, CM ने कहा- NIA करेगी जांच

भोपाल

भोपाल की सेंट्रल जेल से भागे 8 सिमी आतंकियों को एटीएस ने एनकाउंटर में मार गिराया है. सभी 8 आतंकियों को भोपाल के बाहरी इलाके इंतखेड़ी गांव में मार गया है. ये सभी आतंकी ड्यूटी पर मौजूद हेड कॉन्स्टेबल को मारकर फरार हो गए थे.

मारे गए हेड कॉन्स्टेबल की पहचान रमाशंकर के रूप में हुई है. एक और गार्ड के घायल होने की खबर है. आतंकियों के इस एनकाउंटर के पीछे एटीएस, भोपाल पुलिस और आईबी का साझा ऑपरेशन था. वहीं कांग्रेस ने एनकाउंटर पर सवाल उठाते हुए इसकी जांच की मांग की है.

पुलिस ने बताया कि आतंकियों के पास हथियार भी थे. उन्होंने फायरिंग की तो पुलिस ने आत्मरक्षा में फायरिंग की. क्रॉस फायरिंग में सभी आतंकी मारे गए. आतंकियों को नदी में पानी पीते देखा गया.

गांव वालों ने पुलिस को जानकारी दी, जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची. गृह मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से खबर है कि देश के सभी महत्त्वपूर्ण जेलों पर सुरक्षा कड़ी करने के निर्देश दिए गए हैं. सिमी के आतंकियो के भागने के बाद  गृह मंत्रालय सभी राज्यों को जेल की सुरक्षा बढ़ाने की नई एडवाइजरी भेजेगी. वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह को एनकाउंटर की पूरी जानकारी दे दी है.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आतंकी जेल से फरार हुए थे. पुलिस ने तत्परता दिखाई. मुठभेड़ में आतंकी मारे गए. हम पूरी घटना की जांच कराएंगे. जिसकी लापरवाही होगी उसे बर्खास्त किया जाएगा. स्थानीय लोगों की मदद से ऑपरेशन को अंजाम दिया गया.

सीएम ने पूरे ऑपरेशन के लिए पुलिस को बधाई भी दी. सीएम ने कहा कि मैंने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से बात की और एनआईए से जांच की मांग की. गृह मंत्री ने एनआईए से जांच की हामी भर दी है.

भागने वाले सभी 8 आतंकी शेख मुजीब, खालिद, मजीद, अकील खिलजी, जाकिर, महबूब, अमजद और सलिख थे. राज्य के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि पूरे राज्य की पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है. जेल प्रबंधन की वजह से आतंकियों ने इस घटना को अंजाम दिया. कार्रवाई करते हुए जेल के 5 अधिकारियों को सस्पेंड किया गया था.

आतंकियों ने जेल में मिली चादरों की रस्सी बनाई , उसी के सहारे वे दीवार फांद गए. बताया गया था कि इसमें से कुछ आतंकी वे भी थे जो 2013 में खंडवा जेल से भागे थे. घटना रात करीब 3 बजे की है. आतंकियों पर देशद्रोह और अन्य कई संगीन मामले दर्ज है.

डीआईजी ने बताया कि उन्होंने पहले गार्ड को घेर कर अपने कब्जे में लिया और फिर स्टील की प्लेट से उसका गला काट कर उसे मार डाला. मुजीब शेख अहमदाबाद-बॉम्बे ब्लास्ट का मास्टर माइंड है था.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भोपाल जेल से भागे सिमी सदस्यों के मामले में मध्य प्रदेश पुलिस से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. गृह मंत्रालय के मुताबिक 2013 में भागे सिमी के 5 लोग वहीं थे, जो पहले खंडवा जेल से भाग चुके थे. इस बार भी भागे. 3 नये सिमी के सदस्य इस ग्रुप में शामिल होकर भागे. इस ग्रुप का मुख्य सरगना भागने में कामयाब नहीं हो पाया.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment