bsf

LoC पर आतंकियों ने शहीद जवान का शव किया क्षत-विक्षत, सेना ने कहा- देंगे करारा जवाब

श्रीनगर

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में नियंत्रण रेखा के पास माछिल सेक्टर में आतंकियों से मुठभेड़ में एक जवान शहीद हो गया. आतंकियों ने जवान के शव को क्षत-विक्षत कर दिया. सेना ने बताया कि मुठभेड़ में एक आतंकी भी मारा गया और साथ ही कहा कि इस बर्बर कार्रवाई का समुचित जवाब दिया जाएगा.

सेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि नियंत्रण रेखा के पास शुक्रवार शाम को एक मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया, जबकि एक जवान भी शहीद हो गया. आतंकियों ने पाकिस्तानी सेना की फायरिंग की आड़ में वापस पाक अधिकृत कश्मीर भागने से पहले शहीद जवान के शव को क्षत-विक्षत कर दिया. सेना ने कहा कि ये हरकत उस बर्बर चेहरे को दिखाती है जो वहां की सेना और आतंकी ग्रुप दोनों में है. सेना ने यह भी कहा कि पाकिस्तानी सेना के कवर फायर के बगैर आतंकी ऐसा दुस्साहस नहीं कर सकते थे. एलओसी पर कई पोस्ट इतने पास हैं, जहां कोई भी एक दूसरे को निशाना बना सकता है.  जब सेना की टुकडी़ ने उन्हें घेरा तो पाकिस्तानी सेना ने उन्हें कवर फायर देना शुरु किया जिसका फायदा उठाकर वो वापस पीओके में भाग गये.

यह घटना ठीक उसी दिन हुई है जब बीएसएफ ने कहा कि पाकिस्तान की ओर से लगातार संघर्षविराम की घटनाओं के जवाब में की गई फायरिंग में 15 पाकिस्तानी जवान मारे गए हैं. ठीक एक हफ्ते पहले बीएसएफ ने कहा था कि अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सात पाकिस्तानी सैनिक मारे गए थे. हालांकि पाकिस्तान ने इसका खंडन किया था.

अधिकारियों ने बताया कि पाकिस्तान ने गुरुवार और शुक्रवार को लगातार राजौरी, सांबा, आरएस पुरा और सुचेतगढ़ में संघर्षविराम का उल्लंघन किया. गुरुवार को आरएसपुरा सेक्टर में पाकिस्तानी रेंजर्स द्वारा दागे गए मोर्टार शेल से बीएसएफ के एक जवान जितेंद्र सिंह शहीद हो गए थे. पिछले पांच दिनों में पाकिस्तानी गोलाबारी में बीएसएफ के तीन जवान शहीद हो चुके हैं.

इससे पहले 2013 में भी सेना के जवान के शव के साथ आतंकियों ने पुंछ में ऐसी ही हरकत की थी जिसके बाद सेना ने मुहतोड़ जबाब दिया था. उसके बाद पाक सेना और आतंकियों को कभी ऐसी हरकत दोबारा करने की हिम्मत नही पड़ी थी. लेकिन एलओसी पार आतंकियों के लॉन्‍चिंग पैड पर सेना के सर्जिकल स्ट्राइक से बौखलाया पाकिस्तान ऐसी हताशा वाली कार्रवाई कर रहा है. सेना का कहना है कि इस बार न केवल पाक सेना को बल्कि आतंकियों को भी इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment