शहर में पानी के असमान वितरण पर नगर निगम को हाईकोर्ट ने लगाई लताड़

शहर में पानी के असमान वितरण पर नगर निगम को हाईकोर्ट ने लगाई लताड़

शिमला

प्रदेश हाईकोर्ट ने शिमला शहर में पानी के असमान वितरण पर नगर निगम को जमकर लताड़ा. सुनवाई के दौरान कोर्ट को बताया गया कि शिमला में आईपीएच विभाग की ओर से पानी की आपूर्ति पर्याप्त सुचारू रूप से दी जा रही है परंतु निगम के कर्मचारी चंद होटलों को फायदा पहुंचाने के चक्कर में पूरे शहरवासियों को पानी के लिए परेशान किया जा रहा है.

शहर में कहीं कहीं तो 24 घंटे पानी दिया जा रहा है तो कहीं रात को कुछ देर के लिये पानी छोड़ कर खानापूर्ति की जा रही है. मुख्य न्यायाधीश मंसूर अहमद मीर न्यायाधीश तरलोक सिंह चौहान की खंडपीठ ने नगर निगम से पानी वितरण की व्यवस्था में सुधार करने को कहा.

न्यायाधीश चौहान ने निगम को फटकारते हुए निगम की ही स्टेट्स रिपोर्ट के कुछ तथ्यों का हवाला देते हुए बताया कि कुछ बड़े होटलों वाले वार्डों में पानी के असमान वितरण की शिकायतें सही प्रतीत होती हैं.

उन्होंने निगम को अपने सभी कीमैन की अदला बदली करने को कहा. निगम ने कोर्ट को आश्वस्त किया कि कोर्ट के आदेशों के बगैर ही कीमैन की अदला बदली कर दी जायेगी. कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि पानी की आपूर्ति वितरण में रही भिन्नता मुख्यतः कीमैन की होटल वालों से मिलीभगत के कारण हो रही है.

कोर्ट ने निगम होटलों के आपसी तालमेल को स्पष्ट करने को कहा और 1 नवंबर तक मामले पर ताजा स्टेटस रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment