बिहार में कुर्सी से बांधकर महिला इंजीनियर को जिंदा जलाया, मां ने चप्पल से पहचाना

बिहार में कुर्सी से बांधकर महिला इंजीनियर को जिंदा जलाया, मां ने चप्पल से पहचाना

मुजफ्फरपुर

बिहार में एक महिला इंजीनियर को कुर्सी से बांधकर जिंदा जला देने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. मृतका की मां ने राख के पास पड़ी चप्पल देखकर मृतका के उनकी बेटी होने की बात कही.

शुरूआती जांच में पुलिस इसे हत्या का मामला मान रही है. हालांकि पुलिस ने मौके से एक सुसाइड नोट भी बरामद किया है. यह चौंकाने वाली घटना बिहार के मुजफ्फरपुर की है.

महिला इंजीनियर का नाम सरिता देवी था. सरिता मनरेगा में जेई थी और मुरौल में तैनात थी. इंस्पेक्टर विश्वमोहन चौधरी के मुताबिक, रविवार रात बजरंग विहार कॉलोनी के एक निर्माणाधीन मकान में बुरी तरह से जला हुआ शव मिलने की सूचना मिली थी.

पुलिस जब मौके पर पहुंची तो देखा कि शरीर बुरी तरह जल चुका था. शरीर की सिर्फ हड्डियां नजर आ रही थी. पुलिस ने तफ्तीश शुरू की तो महिला इंजीनियर की मां कुसुम देवी ने पास पड़ी चप्पल देखकर शव की पहचान की. पुलिस को जांच में पता चला कि महिला इंजीनियर का उसके पति के साथ काफी समय से विवाद चल रहा था.

मृतका अपने बेटे के साथ गांव में रहती थी. वहीं मृतका का पति भी उसी गांव में रहता है. महिला इंजीनियर की मौत की खबर सुनकर एसएसपी विवेक कुमार खुद मौका-मुआयना करने पहुंचे. एसएसपी ने कहा कि प्राथमिक जांच में मामला हत्या का जान पड़ता है. उन्होंने आगे कहा कि सभी बिंदुओं पर जांच जारी है और जल्द इस मामले को सुलझा लिया जाएगा.

बताते चलें कि सरिता पिछले तीन साल से मुरौल में जेई के पद पर तैनात थी. सरिता बजरंग विहार कॉलोनी में विजय गुप्ता नामक शख्स के मकान में रहती थी. कॉलोनी में ही विजय का एक और निर्माणाधीन मकान है, जहां पर सरिता अक्सर अपने ऑफिस के काम के सिलसिले में जाती थी. इस घटना को वहीं अंजाम दिया गया.

पुलिस ने मौके से एक सुसाइड नोट भी बरामद किया है. नोट में मृतका ने अपनी मां से बच्चों का ख्याल रखने की बात कही है. फिलहाल पुलिस ने सुसाइड नोट की हैंडराइटिंग को पुख्ता करने के लिए फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है. बता दें कि मृतका रविवार शाम आखिरी बार कॉलोनी में ही देखी गई थी.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment