लगातार स्ट्राइक रोटेट करना अब मुश्किल, मैं बेस्ट फिनिशर नहीं रहा- धोनी

लगातार स्ट्राइक रोटेट करना अब मुश्किल, मैं बेस्ट फिनिशर नहीं रहा- धोनी

मोहाली

टीम इंडिया के वनडे कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने तीसरे वनडे मैच में न्यूजीलैंड को सात विकेट से हराने के बाद चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने के संदर्भ में कहा कि उन्होंने अन्य खिलाड़ियों को मैच खत्म करने का मौका देने के लिए उपरी क्रम में बल्लेबाजी की.

न्यूजीलैंड के 286 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत ने विराट कोहली (नाबाद 154), धोनी (80) और मनीष पांडे (नाबाद 28) रन की पारियों की बदौलत 10 गेंद शेष रहते तीन विकेट पर 289 रन बनाकर जीत दर्ज की.

धोनी ने मैच के बाद कहा, ‘‘मैं लंबे समय से निचले क्रम में बल्लेबाजी कर रहा था, मुझे लगता है कि लगभग 200 पारियों से. कुछ हद तक मेरी स्ट्राइक रोटेट करने की क्षमता कम हो रही थी इसलिए मैंने बल्लेबाजी क्रम में उपर आने और अन्य खिलाड़ियों को मैच खत्म करने का मौका देने का फैसला किया.’’

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन मुझे पता था कि मुझे बड़े शॉट भी खेलने होंगे. विराट के साथ बल्लेबाजी करने से मदद मिली क्योंकि हमें पता है कि हम बाउंड्री जड़ सकते हैं और तेजी से एक और दो रन भी ले सकते हैं. वह शुरू से ही ऐसा खिलाड़ी रहा है जो हमेशा भारत के लिए मैच जीतना चाहता है.’’ धोनी और कोहली ने तीसरे विकेट के लिए 151 रन जोड़कर भारत की जीत में अहम भूमिका निभाई.

मैच में 29 रन देकर तीन विकेट चटकाने वाले कामचलाउ स्पिनर केदार जाधव की भी तारीफ करते हुए धोनी ने कहा, ‘‘केदार ने हैरान किया, वह बीच के ओवरों में हमें हमेशा विकेट दिलाता है और इससे आप विरोधी टीम को कम स्कोर पर रोक सकते हो. लेकिन गेंद से अंतिम पांच, छह, सात ओवरों में हमें बेहतर प्रदर्शन करना होगा.’’

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment