370

सांसद सैनी पर स्याही फेंकने का मामला, SIT ने हटाई धारा-307

कुरुक्षेत्र
सांसद राजकुमार सैनी पर स्याही फेंकने हमले के मामले में पुलिस ने पांचों आरोपी युवकों पर लगी आईपीसी की धारा 307 (हत्या का प्रयास) शुक्रवार को हटा दी एसपी सिमरदीप सिंह ने बताया कि एसआईटी ने सांसद पर फेंके पदार्थ के नमूने एफएसएल मधुबन भेजे थे.

गौरतलब है कि 16 अक्टूबर को सैनी मैढ़ क्षत्रिय सुनार धर्मशाला में एक कार्यक्रम के बाद बाहर निकल रहे थे, तभी गेट पर मौजूद पांच युवकों ने सेल्फी के बहाने राजुकमार सैनी से धक्का-मुक्की की और उन पर स्याही फेंक दी.
इसके बाद सैनी के समर्थकों ने चार को पकड़ लिया और जमकर पीटा, जबकि एक फरार हो गया पकड़े गए चारों आरोपियों को बाद में सिटी पुलिस के हवाले कर दिया गया चारों आरोपी हिसार के बुढ़ाना गांव के रहने वाले हैं, इनकी पहचान हरिकेश, सौरव ढांडा, प्रवीण और संदीप के रूप में हुई है.
सांसद ने इसे कैमिकल बताया था आरोप लगाया था कि युवकों ने उनका गला भी दबाया, पुलिस ने आरोपियों पर धारा 307, 323, 324 सहित कई धाराओं में केस दर्ज किया था, इस पर जाट समुदाय के कुछ लोग आरोपी युवकों के समर्थन में गए कई जगह धरने-प्रदर्शन और जाम लगाया.

सरकार को चेतावनी दी कि एक सप्ताह में धारा 307 नहीं हटाई तो जाट समाज आंदोलन करेगा इसके बाद पुलिस ने जांच के लिए डीएसपी नुपुर बिश्नोई की अगुवाई में एसआईटी गठित की थी.

अंतरिम रिपोर्ट में बताया गया कि पदार्थ में किसी तरह के हानिकारक कैमिकल नहीं थे, इसलिए मामले में हत्या के प्रयास की धारा नहीं बनती, इस बात की पुष्टि करते हुए कुरुक्षेत्र के एसपी सिमरदीप सिंह ने बताया एसआईटी की सिफारिश पर ही धारा 307 हटाने का फैसला लिया गया है.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment