चीन ने सबसे लंबे मिशन पर भेजे 2 एस्ट्रोनॉट, स्पेस लैब में बिताएंगे 30 दिन

चीन ने सबसे लंबे मिशन पर भेजे 2 एस्ट्रोनॉट, स्पेस लैब में बिताएंगे 30 दिन

बीजिंग

चीन ने शेनझाऊ 11 स्पेस एयरक्राफ्ट लॉन्च किया, इसमें दो एस्ट्रोनॉट हैं जो वहां पहले से मौजूद लैब में 30 दिन तक रहेंगे यह चीन का अब तक का सबसे लंबा मैन्ड स्पेस मिशन है, चीन 2022 तक स्पेस में अपना परमानेंट स्टेशन बनाना चाहता है.

अभी स्पेस में उसकी टेम्परेरी लैब थियानगोंग-2 पृथ्वी का चक्कर लगा रही है दोनों एस्ट्रोनॉट इसी लैब में रहेंगे, चीन ने मैन्ड स्पेस मिशन की शुरुआत 2003 में की थी, लॉन्चिंग पर मौजूद रहा फॉरेन मीडिया, शेनझाऊ 11 की लॉन्चिंग के मौके पर लोकल के साथ फॉरेन मीडिया भी मौजूद रहा.

चीन में आमतौर पर विदेशी मीडिया को ऐसे मौके कवर करने की इजाजत नहीं दी जाती, शेनझाऊ 11 जियुकुआन सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से लॉन्ग मार्च-2 रॉकेट से छोड़ा गया, इस स्पेसक्राफ्ट में दो एस्ट्रोनॉट चिंग हैपेंग और चेन डोंग स्पेस में भेजे गए हैं.
चीन ने इस साल तीसरी बार अपना मिशन स्पेस सेंटर भेजा है, मैन्ड स्पेस इंजीनियरिंग ऑफिस की डिप्टी डायरेक्टर वू पिंग के मुताबिक शेनझाऊ-11 स्पेसक्राफ्ट दो दिन में स्पेस लैब थियानगोंग-2 से जुड़ जाएगा, दोनों एस्ट्रोनॉट स्पेस में 33 दिन तक रहेंगे, इनमें से 30 दिन वे थियानगोंग-2 लैब में बिताएंगे.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment