मलेशियन स्टार पर भारी पड़े सौरभ वर्मा, जीता चीनी ताइपे ओपन का खिताब

मलेशियन स्टार पर भारी पड़े सौरभ वर्मा, जीता चीनी ताइपे ओपन का खिताब

ताइपे सिटी

चोटों के बाद वापसी कर रहे सौरभ वर्मा ने रविवार को यहां मलेशिया के डेरेन ल्यू को फाइनल में हराकर 55000 डॉलर इनामी चीनी ताइपे ओपन बैडमिंटन ग्रांप्री टूर्नामेंट का पुरुष एकल खिताब जीत लिया.

मध्य प्रदेश के 23 साल के सौरभ ने पहले दो गेम में पिछड़ने के बाद जीत लिए जबकि तीसरे गेम के बीच में ल्यू कंधे की चोट के कारण मैच से हट गए जिससे भारतीय खिलाड़ी ने खिताब जीत लिया. ल्यू जब मैच से हटे तब सौरभ 12-10 12-10 3-3 से आगे चल रहे थे. पिछले साल कोहनी और घुटने की चोट के कारण लगभग एक साल तक बाहर रहे सौरभ इससे पहले बेल्जियम और पोलैंड अंतरराष्ट्रीय चैलेंजर प्रतियोगिताओं में उप विजेता रहे थे.

वर्ष 2011 के राष्ट्रीय चैम्पियन सौरभ ने खिताब जीतने के बाद कहा, ‘यह मेरे लिए शानदार जीत है और इसकी काफी जरूरत थी. मैं बेल्जियम और पोलैंड ओपन के फाइनल में पहुंचा लेकिन जीत नहीं पाया. इसलिए मैं यहां वही गलती नहीं दोहराने को लेकर प्रतिबद्ध था और मुझे खुशी है कि आज मैं जीत पाया.’ सौरभ ने अच्छी शुरुआत की और पहले गेम में वह 5-3 से आगे चल रहे थे. ल्यू ने इसके बाद लगातार पांच अंक के साथ 8-5 की बढ़त बनाई. सौरभ ने हालांकि 7-10 के स्कोर पर लगातार पांच अंक के साथ पहला गेम जीत लिया.

दूसरे गेम में ल्यू ने अच्छी शुरूआत करते हुए 5-1 की बढ़त बनाई और वह एक समय 10-6 से आगे चल रहे थे. सौरभ ने इसके बाद लगातार छह अंक के साथ एक बार फिर ल्यू को हैरान करते हुए दूसरा गेम भी जीत लिया. तीसरे गेम में ल्यू हालांकि कंधे में चोट के कारण 3-3 के स्कोर पर मैच से हट गए.

सौरभ ने कहा, ‘विरोधी खिलाड़ी अच्छा खेल रहा था लेकिन तीसरे गेम में उसे कंधे में कुछ दर्द महसूस हुआ और वह मुकाबले से हट गया. यहां तक कि वह पहले दो गेम में आगे चल रहा था और काफी सहज था. मैंने अच्छी शुरूआत की लेकिन काफी गलतियां . हालांकि पहला गेम जीतने में सफल रहा. दूसरे गेम में मैंने काफी आसान अंक लुटाए लेकिन मुझे खुशी है कि अंत में मैं नियंत्रण रख पाया.’ सौरभ ने कहा कि अब उनकी नजरें शीर्ष 40 में दोबारा जगह हासिल करने पर टिकी हैं जिससे कि वह सुपर सीरीज प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले सकें.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment