भारत ने UN में पाक को बताया दुनिया की शांति के लिए सबसे बड़ा खतरा

भारत ने UN में पाक को बताया दुनिया की शांति के लिए सबसे बड़ा खतरा

जिनीवा

भारत ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान को करारा जवाब दिया है. भारत ने संयुक्त राष्ट्र में कहा कि असुरक्षित परमाणु हथियारों और जिहादी गुटों की पाकिस्तानी सरकार से सांठगांठ के कारण पाकिस्तान विश्व शांति के लिए सबसे बड़ा खतरा है.

दरअसल, जब पाकिस्तानी प्रतिनिधि तहमीना जंजुआ ने जम्मू-कश्मीर का मसला उठाया तो भारतीय राजदूत वेंकटेश वर्मा ने ‘निशस्‍त्रीकरण सम्मेलन’ में जंजुआ को करारा जवाब देते हुआ कहा कि शांति और स्थायित्व को सबसे बड़ा खतरा आतंकवाद को मिलने वाले बढ़ावे और लगातार परमाणु शक्ति को विस्तार देने से है.

वर्मा ने संयुक्त राष्ट्र को याद दिलाया कि विश्व में परमाणु हथियार के प्रसार पर पाकिस्तान की उंगलियों के साफ निशान देखे जा सकते हैं.

इससे पहले जंजुआ ने भारत को एक बार फिर उकसाते हुए संयुक्त राष्ट्र से कहा कि दक्षिण एशिया के सुरक्षा माहौल को भारत के वर्चस्वपूर्ण नीतियों पर अमल करने से नुकसान पहुंचा है.

मुख्य विवादों और खास तौर पर कश्मीर विवाद को सुलझाए बगैर क्षेत्रीय शांति संभव नहीं है. जंजुआ ने यूएन की अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा समिति से कहा कि दक्षिण एशिया में भारत की वर्चस्ववादी नीतियों और सैन्य दबदबे के लिए उसकी कोशिशें वैश्विक और क्षेत्रीय, दोनों स्तरों पर अस्थिरता पैदा कर रही हैं.

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के एक बयान में जंजुआ द्वारा समिति को दी गई जानकारी के बारे में कहा गया है कि राजदूत जंजुआ ने इस बात का जिक्र किया कि भारत के वर्चस्ववादी नीतियों पर जोर देने, लगातार हथियार जुटाने और सुरक्षा मुद्दों पर किसी सार्थक वार्ता में शामिल होने से इनकार करने से दक्षिण एशिया के सुरक्षा माहौल को नुकसान पहुंचा है.

बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान की सुरक्षा को इसके पड़ोस में परमाणु हथियार बनाने से चुनौती मिली है.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment