'भारत-अमेरिका के घनिष्ठ संबंध ने पाकिस्तान को किया रूस के करीब'

‘भारत-अमेरिका के घनिष्ठ संबंध ने पाकिस्तान को किया रूस के करीब’

वाशिंगटन

अमेरिका ने राजनीतिक फायदे के लिए भारत के साथ संबंधों को मजबूती दी है. इसके कारण ही पाकिस्तान को रूस से करीबी संबंधों की जरूरत महसूस हुई. यह कहना है कश्मीर पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के विशेष दूत सीनेटर मुशाहिद हुसैन सैयद का. वे वाशिंगटन में थिंक टैंक अटलांटिक काउंसिल के एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि अमेरिका की राजनयिक नीति में बदलाव दिख रहा है. 2006 में अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को वीजा देने से इन्कार कर दिया था. लेकिन, उनके प्रधानमंत्री बनते ही राजनीतिक फायदे के लिए अमेरिका ने अपनी नीति बदल ली.

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने दो बार भारत का दौरा किया. इसके बाद पाकिस्तान को भी रूस के करीब जाने की जरूरत महसूस हुई.

उन्होंने इसे पाकिस्तान और रूस के संबंधों में एक नई शुरुआत बताते हुए कहा कि मॉस्को क्षेत्र के सभी देशों के साथ संबंध कायम करने के पक्ष में है. वह गुपचुप तरीके से अफगान तालिबान के साथ भी बातचीत कर रहा है. हुसैन इससे पहले अफगानिस्तान में शांति को कश्मीर मुद्दे से जोड़ने की कोशिश भी कर चुके हैं.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment