harry-mh1-mhone

हैरी वर्मा हत्याकांड मामला में राष्ट्रपति ने ठुकराई दोषियों की क्षमा याचिका

होशियारपुर

होशियारपुर के बहुचर्चित अभि वर्मा उर्फ हैरी वर्मा हत्याकांड के दोषियों की रहम की अपील को राष्ट्रपति ने रद कर दिया है. पटियाला जेल में हैरी वर्मा की हत्या के दोषी जसवीर ¨सह वालिया और विक्रम ¨सह ने राष्ट्रपति के आगे रहम की अपील की थी जिसे राष्ट्रपति ने नामंजूर कर दिया गया है. इनकी फांसी के आर्डर सेशन कोर्ट होशियारपुर से पटियाला जेल में भेज दिए गए हैं. अब इनको 25 अक्टूबर को फांसी दी जाएगी.

14 फरवरी 2005 को अभि उर्फ हैरी वर्मा का फिरौती के लिए अपहरण कर लिया गया था और अगले दिन उसका शव होशियारपुर से 20 किलोमीटर दूर मिला था. हैरी की हत्या के आरोप में पुलिस की तरफ से गिरफ्तार किए गए जसवीर ¨सह वालिया, उसकी पत्नी सोनिया व विक्रम ¨सह को होशियारपुर की कोर्ट ने 21 दिसम्बर 2006 को फांसी की सजा सुनाई थी.

हाइकोर्ट की तरफ से सोनिया की फांसी को उम्र कैद में बदल दिया था. बिक्रम ¨सह और जसवीर ¨सह की फांसी की सजा बरकरार रही व अदालत ने 25 सितंबर 2012 को दोनों को डेथ वारंट जारी किए. दोनों को 5 अक्टूबर 2012 को फांसी लगाने के हुक्म दिए गए थे.

इसमें इनकी तरफ से एक और पटीशन दायर की गयी थी जिस में फांसी के दो दिन पहले रोक लग गयी थी. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट की तरफ से भी 11 अक्टूबर को इनकी फांसी पर रोक लगा दी गई थी. उसके बाद दोनों की तरफ से 2013 में राष्ट्रपति व पंजाब के राज्यपाल को भी रहम की अपील की गई थी जो कि राज्यपाल की ओर से रद हो गई.

जनवरी 2016 में इन्होंने फिर से राष्ट्रपति के पास दया याचिका दी थी जो कि सितंबर में खारिज कर दी गई. होशियारपुर की अदालत से इनके फांसी के आर्डर पटियाला जेल को ई-मेल कर दिए गए हैं.

हालांकि इस मामले में हैरी वर्मा के परिजन व वकील कुछ बोलने को तैयार नहीं है. उनका कहना है कि जब तक उनके पास आर्डर की कॉपी नहीं आ जाती वे इस मामले में कुछ नहीं कहेंगे.

Share With:
Rate This Article