railway-mh1-mhone

रेलवे ने निकाला कमाई का नया फंडा, सभी वेटिंग रूम बनेंगे 3 स्टार होटल

सैर सपाटे पर जाने वाले रेल यात्रियों को सस्ते और अच्छे होटलों के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। देशभर में रेलवे स्टेशनों पर बने विश्राम कक्ष और डॉर्मिटरीज को बजट होटल बनाया जाएगा। इसमें यात्रियों के लिए तमाम सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी। रेलवे मंत्रालय ने नई नीति तैयार की है। इसके लिए यात्रियों को अधिक कीमत चुकानी होगी।

रेल मंत्रालय ने चार दिन पहले आईआरसीटीसी को चरणबद्ध तरीके से सभी रिटायरिंग रूम व डॉर्मेटरी देने की घोषणा की है। आईआरसीटीसी स्टेशनों पर बने रिटायरिंग रूम को नया लुक देगी। सूत्रों ने बताया कि रिटायरिंग रूम में तीन स्टार होटल की तमाम सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। मौजूदा फर्नीचर और अन्य सामान को हटाकर आईआरसीटीसी अपनी पसंद का फर्नीचर लगाएगी।

खानपान सेवा भी आईआरसीटीसी के जिम्मे दी गई है। इस योजना को पीपीपी के तहत पूरा किया जाएगा। आईआरसीटीसी होटल उद्योग के साथ इसे चलाएगी। इससे होने वाली आय का 75 फीसदी हिस्सा रेलवे को दिया जाएगा शेष में आईआरसीटीसी और निजी खिलाड़ियों की भागीदारी होगी। इससे खिलाड़ियों को भी फायदा होगा और वह मिले धन से अपने खेल को निखार सकेंगे। रेलवे मंत्रालय ने नई नीति तैयार की है। इसके मुताबिक प्रत्येक जोनल रेलवे के साथ रेलवे अलग-अलग करार करेगी। टेंडर प्रक्रिया के जरिए विश्राम कक्ष को विकसित किया जाएगा।

महानगरों, बड़े और मध्यम शहरों की दरें अलग होंगी-
आईआरसीटीसी के सीएमटी ए.के. मनोचा रेल मंत्रालय के इस फैसले से काफी खुश हैं। उन्होंने बताया कि आईआरसीटीसी में काबिल पेशवर लोग हैं। इसलिए रिटायरिंग रूम को विश्व स्तरीय बजट होटलों की तरह बनाने में सफल होंगे। इनकी बुकिंग ऑनलाइन की जा सकेगी। किराये के बारे में पूछने पर मनोचा ने बताया कि इस पर अभी कोई फैसला नहीं किया है, लेकिन महानगरों, बड़े शहरों व मध्यम शहरों में बनने वाले रिटायरिंग रूम की दरें अलग होंगी।

रेलवे स्टेशन के विश्राम कक्ष हैं पुराने और जर्जर-
वर्तमान में रेलवे स्टेशनों पर बने रिटायरिंग रूम व डॉर्मेटरी दशकों पुराने होने के कारण जर्जर स्थिति में हैं। पुराने बेड, गंदी चादर-तकिया, कॉकरोज, खटमल, चूहे, टूटी फर्श और खानपान सेवा की कोई व्यवस्था नहीं है। विभिन्न शहरों में इसका किराया अलग-अलग है, लेकिन डबल बेड रूम के लिए 250-400 रुपये 12 घंटे यात्रियों से लिया जाता है। डॉर्मेटरी का किराया इतनी अवधि के लिए 80 से 100 रुपये है। देशभर में छह स्टेशनों के रिटायरिंग रूम का यही हाल है। इस कारण यात्रियों को स्टेशन के बाहर सस्ते व अच्छे होटल के लिए भटकना पड़ता है।

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment