ashish-mh1-mhone

आशीष को सलाम, अंधेपन को मात देकर बने बैंक अधिकारी

कहते हैं कि कुछ करने का अगर जुनून हो तो कोई भी चीज आपका रास्ता नहीं रोक सकती। बचपन से नेत्रहीन आशीष परमार 23 वर्ष की उम्र में प्रोबेशन अफसर की परीक्षा उत्तीर्ण कर बैंक में अधिकारी बन गए हैं।

दोनों आंखों की रोशनी से महरूम आशीष परिवार पर आश्रित होने के बजाय उनका सहारा बन गए हैं। आईबीपीएस की ओर से नवंबर 2015 में आयोजित बैंक पीओ की परीक्षा उत्तीर्ण कर आशीष का चयन पंजाब एंड सिंध बैंक में हुआ।

लंबी चयन प्रक्रिया के बाद इसी वर्ष अगस्त में दिल्ली में ज्वाइनिंग दी। सोमवार को उन्होंने हमीरपुर स्थित बैंक की शाखा में कार्यभार संभाल लिया है। आशीष ने आठवीं तक की शिक्षा देहरादून स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर विजुअल हैंडीकैप्ड से ली।

दिल्ली पब्लिक स्कूल आरकेपुरम से बारहवीं तक की पढ़ाई पूरी की। सामान्य बच्चों वाले दिल्ली के हिंदू कॉलेज से आशीष ने वर्ष 2014 में स्नातक की डिग्री हासिल की। इसके बाद उन्होंने आईबीपीएस के माध्यम से पीओ की परीक्षा पास की। आशीष अपनी कामयाबी का श्रेय माता-पिता, रिश्तेदार लवलेश कटोच और कॉलेज प्रवक्ता अमन कुमार को देते हैं।

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment