attack-mh1-mhone

उरी, नौगाम में LoC के पास तलाशी अभियान जारी, PoK से ताक में हैं 15 घुसपैठिए

जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर तथा नौगाम में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के समीप घुसपैठियों की तलाश आज भी जारी है। सुबह होते ही सुरक्षाबलों ने फिर अभियान शुरू कर दिया। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से 15 आतंकवादियों के नियंत्रण रेखा के इस ओर आने की आशंका है।

10 आतंकी ढेर, एक जवान शहीद
रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने बताया कि दोनों अभियानों के बारे में विस्तृत जानकारी एकत्र की जा रही है। हालांकि आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि कल सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में पीओके से घुसपैठ करने वाले दस आतंकवादी मारे गए।
कर्नल कालिया ने बताया कि जब तक आतंकवादियों के शवों को बरामद नहीं कर लिया जाता तब तक मारे गए घुसपैठियों की संख्या की पुष्टि नहीं की जा सकती है। उन्होंने बताया कि नौगाम सेक्टर एक जवान शहीद हो गया है।

कर्नल ने बताया कि सेना ने पीओके से नियंत्रण रेखा पार करके उरी सेक्टर में दाखिल हो रहे आतंकवादियों के एक समूह को देख उन्हें रुकने की चेतावनी दी और आत्मसमर्पण के लिये कहा, जिस पर हथियारों से लैस आतंकवादियों ने सेना पर हमला कर दिया। सेना ने जवाबी कार्रवाई की। हम अभी मुठभेड़ में मारे गए आतंकवादियों की सही संख्या के बारे में पुष्टि नहीं कर सकते हैं। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि पहले अभियान को समाप्त होने दीजिये।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि उन्होंने कहा इलाके में अतिरिक्त सुरक्षा बलों को भेजा गया है तथा जंगल को चारों तरफ से घेर लिया गया है ताकि आतंकवादी भाग न सके। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की ओर से मंगलवार को संघर्ष विराम का उल्लंघन किया गया। भारत की ओर से भी जवाबी कार्रवाई की गई। नियंत्रण रेखा के दोनों ओर से करीब 15 मिनट तक गोलीबारी होती रही जिसमें किसी के घायल होने की सूचना नहीं है।

कर्नल कालिया ने कहा कि सुरक्षा बलों ने सीमावर्ती जिले कुपवाड़ा के नौगाम सेक्टर में भी एक अन्य घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया। यहां चार से पांच आतंकवादियों का समूह घुसपैठ की कोशिश कर रहा था तभी सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गया जिसकी बाद में मौत हो गई।

Share With:
Rate This Article