prison-mh1-mhone

जम्मू: न सुधरने वाले कैदी दूसरी जेलों में होंगे शिफ्ट

जेलों में कैदियों के बीच बढ़ते लड़ाई-झगड़े जेल विभाग के लिए परेशानी का सबब बन गए हैं। काउंसलिंग के बावजूद कई कैदियों के व्यवहार में सुधार नहीं हो रहा। इसलिए विभाग अब ऐसे कैदियों को छोटी जेलों में शिफ्ट करने का मन बना रहा है।

पिछले एक साल में तीन बार कैदियों के आपस में भिड़ने की घटनाएं हो चुकी हैं। इसमें घायल होकर कैदी अस्पताल तक पहुंचे हैं। ऐसे भी छिटपुट घटनाएं जेलों में बढ़ रही हैं। विभाग काउंसलिंग को भी बढ़ाने की सोच रहा है।

कोट भलवाल जेल के सुपरिंटेंडेंट दिनेश कुमार का कहना है कि मनोचिकित्सकों से कैदियों की काउंसलिंग कराई जाती है, ताकि उनके व्यवहार में सुधार आ सके, लेकिन कुछ कैदी हैं, जिन पर इसका असर नहीं होता। इसलिए विभाग ऐसे कैदियों को छोटी जेलों में शिफ्ट कर देगा, क्योंकि ऐसे लोगों को अन्य कैदियों के साथ नहीं रखा जा सकता। वे न तो खुद सुधरते हैं और न ही अन्य कैदियों को सुधरने देते हैं।

यहां तक कि जेल स्टाफ को भी बहकाते हैं। विभाग ऐसे कैदियों की सूची बना रहा है। जिनको दूसरी छोटी जेलों में बंद किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि कई बार कैदियों के बीच इस तरह की घटनाएं हो चुकी हैं। कुख्यात अपराधी सन्नी बाबा के साथ भी ऐसा हो चुका है। सन्नी पर भी जेल में हमला हो चुका है।

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment