cpi-mh1-mhone

रंगदारी टैक्स वसूली के नाम पर नक्सली हुए खूंखार, पढ़ें पूरी कहानी

सारण जिले में नक्सलियों ने एक बार फिर लेवी मांगने की कार्रवाई शुरू कर दी है। इसके लिए उत्तर बिहार पश्चिमी जोनल कमेटी की ओर से बजाप्ता पर्चानुमा पत्र छपवाया गया है। अमनौर में एक गाड़ी मालिक से पांच लाख रुपये की लेवी मांगी गई है। पुलिस ने इस सिलसिले में दो नक्सलियों पर प्राथमिकी दर्ज की है।

इस परफर्मा में नाम के स्थान पर खाली जगह छोड़ी गई है। जिससे भी लेवी मांगनी होती है, खाली जगह में नाम भर दिया जाता है। जिनसे लेवी मांगी जाती है, उनका व्यवसाय भी प्रिंटेड है- ईंट भट्ठा/पेट्रोल पंप/टावर/प्लाईबोर्ड। जाहिर है कि ये चार व्यवसाय वाले नक्सलियों के टारगेट पर अधिक होते हैं। वैसे इनसे इतर कोई व्यवसाय होता है तो खाली जगह पर उक्त व्यवसाय लिखा जाता है।

अमनौर के मुड़ा मठिया गांव निवासी रामजी भारती से लेवी मांगने के लिए पत्र में उनके व्यवसाय के स्थान पर गाड़ी मालिक कलम से लिखा हुआ है, क्योंकि प्रिंटेड व्यवसाय से उनका व्यवसाय इतर है। वहीं किससे कितनी राशि की लेवी मांगनी है, उसके लिए भी परफर्मा पर खाली स्थान छोड़ा गया होता है। उस स्थान पर कलम से राशि अंकित की जाती है। पिछले साल भी एक पंप मालिक से दस लाख रुपये की लेवी मांगी गई थी, जिसकी एफआईआर कराई गई थी। वहीं दो-तीन साल पूर्व पानापुर में एक चिमनी मालिक से नक्सलियों ने इसी परफर्मा पर लेवी मांगी थी।

लेवी नहीं देने पर उनकी चिमनी उड़ा दी गई थी, जिसके सदमे से कुछ दिनों बाद ही चिमनी मालिक की मौत हो गई थी। कई निर्माण कंपनियों से भी लेवी मांगे जाने व वसूलने का खुलासा पूर्व में भी हुआ है। लेवी मांगे जाने को ले जिले में एक बार फिर दहशत व्याप्त हो गई थी।

इनमें उत्तर बिहार पश्चिमी जोनल कमेटी के प्रवक्ता प्रहार के अलावा एक अन्य विजय महतो को नामजद किया गया है। प्राथमिकी में कहा गया है कि 13 सितंबर को काले रंग की पैशन प्रो बाइक से ये दोनों मुडम मठिया गांव में गाड़ी मालिक रामजी भारती के घर पर आये। दोनों ने एक लिफाफा उनके भतीजा अभिषेक भारती को दिया और रामजी भारती को दे देने के लिए कहा। लेकिन जब लिफाफा देने आये बाइक सवार से जब अभिषेक ने पूछा कि शादी या अष्टयाम का नेवता है तो कुछ नहीं बोला। उनके जाने के बाद जब अभिषेक ने लिफाफा खोला तो अवाक रह गया।

नक्सली संगठन द्वारा लेवी की मांग की गयी थी। उसने फौरन अपने चाचा को इसकी जानकारी दी। डरे-सहमे चाचा रामजी ने इसकी जानकारी पुलिस प्रशासन को दी है और जानमाल की सुरक्षा की गुहार लगायी है। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है पर मीडिया को फिलहाल कुछ भी बताने से इनकार कर रही है। फिलहाल आगे की बातों के लिए कयास ही लगाए जा रहे हैं।

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment