metro-mh1-mhone

बुलेट ट्रेन से पहले ही पुणे में 1120 Kmph की स्पीड से दौड़ेगी ये सुपरसोनिक ट्रेन

अमेरिकी बिलिनेयर ऐलन मस्क की कंपनी SpaceX की सुपरसोनिक ट्रेन का ट्रायल रन भारत के पुणे में शुरू किया जा सकता है। इस ट्रेन को मस्क ने Hyperloop का नाम दिया है और उम्मीद जताई जा रही है कि ये पिछली सभी ट्रेनों की स्पीड का रिकॉर्ड तोड़ सकती है। ख़बरों के मुताबिक परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की योजना सफल रही तो ऐसा जल्द ही देखने को मिलेगा।

बता दें कि गडकरी पिछले दिनों अमेरिकन वेस्ट कोस्ट की यात्रा पर थे जिसे हाईटेक इनोवेशन का ग्लोबल हब माना जाता है। यहां गडकरी की मुलाक़ात टेस्ला के अधिकारियों से भी हुई थी। गौरतलब है कि टेस्ला की स्थापना भी ऐलन मस्क ने ही की है। मस्क को दुनिया भर में अपने बेमिसाल आइडियाज के लिए ही जाना जाता है।

गडकरी ने बताया कि उन्होंने मस्क को ट्रायल रन पुणे में शुरू करने का न्योता दिया है। गडकरी ने आगे कहा कि उन्होंने मस्क को ये प्रोजेक्ट पुणे से मुंबई के बीच शुरू करने का ऑफ़र दिया है। हालांकि यहां ये प्रोजेक्ट SpaceX नाम के बिना ही शुरू किए जाने की चर्चा है। हाइपरलूप को पहली बार साल 2013 में दुनिया के सामने पेश किया गया था। ये ट्रेन विमान की गति से भी तेज करीब 1,120 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से चल सकती है। ये नागपुर से मुंबई सिर्फ 35 मिनट में पहुंचा सकती है। इस ट्रेन को हाइपरलूप ट्यूब के भीतर कम दबाव वाले क्षेत्र में भी चलाया जा सकता है।

महारष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़नवीस ने भी इस बात की पुष्टि कर दी है कि मस्क से इस तरह की बातचीत जारी है। उनके मुताबिक भी मस्क को भरोसा दिलाया गया है कि राज्य सरकार उनके इस प्रोजेक्ट में पूरी तरह मदद देने के लिए तैयार है। गडकरी ने टेस्ला को भारत में क्लीन एनर्जी के क्षेत्र में इन्वेस्ट करने का न्योता भी दिया है।

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment