court-mh1-mhone

‘केवल सिंदूर भरने मात्र से ही नहीं मिल जाता पत्नी का दर्जा’

पहले पति के रहते अगर कोई व्यक्ति महिला की मांग में सिंदूर डाल देता है, तो इस आधार पर महिला को कैसे पत्नी का दर्जा दिया जा सकता है।

हाईकोर्ट ने उक्त टिप्पणी करते हुए कहा कि इस मामले में आश्चर्य यह भी है कि पहले पति की मौजूदगी में ही सिंदूर लगाया गया था। अदालत ने कहा कि महिला या उसके बच्चे कथित दूसरे पति से गुजाराभत्ता पाने के हकदार नहीं हैं।

न्यायमूर्ति प्रतिभा रानी ने महिला द्वारा दायर याचिका को खारिज करते हुए कहा कि ऐसा कोई भी साक्ष्य नहीं है कि प्रतिवादी बनाए गए व्यक्ति व महिला के बीच पति-पत्नी के संबंध थे।

Share With:
Rate This Article