file-mh1-mhone

नए सीआईसी की नियुक्ति नहीं, कार्यवाहक की फाइल गायब

हिमाचल प्रदेश राज्य सूचना आयोग में साढ़े पांच महीने से नए मुख्य सूचना आयुक्त (सीआईसी) की नियुक्ति ही नहीं हो पाई है जबकि कार्यवाहक सीआईसी की फाइल गायब हो गई है। बिना मुख्य सूचना आयुक्त 400 से ज्यादा अपीलें राज्य सूचना आयोग में फंसी पड़ी हैं। सुनवाई और अन्य कामकाज ठप है।

आरटीआई एक्ट के मुताबिक मौजूदा सूचना आयुक्त इन पर अकेले फैसला करने को अधिकृत नहीं हैं। उधर, नए मुख्य सूचना आयुक्त को तय करने के लिए मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार धूमल बैठक के लिए इकट्ठे नहीं हो पाए हैं। राज्य मुख्य सूचना आयुक्त भीम सेन के 24 मार्च 2016 को सेवानिवृत्त होने के बाद यह पद खाली हुआ था।

सूत्रों ने बताया कि सेवानिवृत्त हो चुके पी. मित्रा के मुख्य सचिव रहते राज्य सूचना आयुक्त केडी बातिश को कार्यवाहक सीआईसी बनाने की एक फाइल भी प्रशासनिक सुधार विभाग में बनी। चूंकि, केडी बातिश पूर्व भाजपा सरकार के कार्यकाल में नियुक्त हुए थे और वे कभी पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल के करीबियों में गिने जाते थे तो उन्हें ये कार्यभार देने पर सहमति ही नहीं बनी।

उल्टा, इस बारे में चली फाइल ही दबकर रह गई। आज इस फाइल का कोई अता-पता नहीं है। बाद में इस पद को विज्ञापित किया गया। कुल 146 आवेदन पहुंचे। इन आवेदनों की स्क्रूटिनी चली हुई है। मुख्य सूचना आयुक्त कौन होगा इस पर अंतिम फैसला सीएम वीरभद्र

सिंह, नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार धूमल एवं कैबिनेट मंत्री विद्या स्टोक्स की त्रिसदस्यीय कमेटी को करना है। इस कमेटी को बने हुए भी काफी समय हो गया है, लेकिन बैठक की तिथि तिथि तय नहीं है।

Share With:
Rate This Article