mbbs-mh1-mhone

विदेश में पढ़ रहे बेटे की मौत के गम में परिवार के सभी तीन सदस्यों ने की खुदकुशी

विदेश में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे इकलौते बेटे की मौत से दुखी एक परिवार के सभी तीन सदस्यों ने जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी कर ली।

घटना, बहादुरगढ़ के गांव खेड़ा डाबर में हुई। मरने वालों में पति-पत्नी और उनकी बेटी शामिल है। खेड़ा डाबर में भगवान दास (50), उनकी पत्नी शारदा (48) और बेटी सरिता (20) ने अपने घर में जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली। घटना की जानकारी मिलते ही पूरे गांव में मातम छा गया। पड़ोसियों ने बताया कि परिवार का बेटा कुलदीप रूस में पढ़ाई कर रहा था, जिसकी कुछ दिन रूस में ही पहले हार्टअटैक से मौत हो गई थी, जिसके बाद पूरा परिवार डिप्रेशन में था।

बेटे की मौत के गम में कुलदीप की मां, पिता व बहन ने इतना बड़ा कदम उठा लिया। उनके घर से पुलिस को सात पेज का सुसाइड नोट मिला है। इसमें इन लोगों ने अपनी मौत के लिए कई लोगों का नाम बताया है। सुसाइड नोट में लिखा है कि उन्होंने 2014 में उनके बेटे कुलदीप का मेडिकल में एडमिशन करवाने के नाम पर 35 लाख रुपये दिए थे। पैसे लेने वाले ने न तो एडमिशन करवाया और न ही पूरे रुपये वापस दिए।

जाफरपुर पुलिस को सुबह लगभग 7:16 पर सुसाइड की जानकारी मिली। इसके बाद गांव पहुंच कर पुलिस ने तीनों को अस्पताल पहुंचाया गया। जहां डॉक्टरों ने भगवान दास और उनकी बेटी सरिता को मृत घोषित कर दिया। शारदा को नजफगढ़ के प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया था जहां इलाज के दौरान उनकी भी मौत हो गई। नजफगढ़ के विकास हॉस्पिटल के प्रवक्ता ने शारदा की मौत की भी पुष्टि की।

Share With:
Rate This Article