voilance-mh1-mhone

कश्मीर घाटी में सुरक्षाबलों के लिए ही मुसीबत बना ‘मिर्ची बम’

घाटी में हिंसा पर काबू पाने के लिए पैलेट गन के विकल्प के रूप में आया पावा शेल सुरक्षा बलों के लिए मुसीबत बन गया है। हवा के विपरीत रुख से इस शेल के धुएं से जवान खुद ही परेशान हो रहे हैं। यही वजह है कि घाटी में सुरक्षा बल इसका उपयोग करने से बच रहे हैं।

घाटी भेजे गए 1000 पावा शेल में से अब तक कुछ का ही इस्तेमाल किया गया है। विपक्ष के हंगामे तथा पैलेट गन के इस्तेमाल पर रोक लगाने की मांग पर गृह मंत्रालय ने एक्सपर्ट कमेटी का गठन किया था। इसने इसके स्थान पर पावा शेल के इस्तेमाल की सिफारिश की।

Share With:
Rate This Article