Hooda-Mh1-Mhone

मानेसर जमीन मामलाः हुड्डा के घर समेत 20 ठिकानों पर CBI के छापे

हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा के घर समेत 20 ठिकानों पर सीबीआई ने शनिवार तड़के छापेमारी की है। सीबीआई ने दिल्ली, गुरु ग्राम, पंचकूला और चंडीगढ़ में भी कुछ जगहों पर छापे मारे हैं। मानेसर जमीन केस को लेकर सीएम हुड्डा की
सीबीआई के सूत्रों के मुताबिक एजेंसी के दल ने हुडडा के आवास के साथ ही दो पूर्व आईएएस अधिकारियों – तत्कालीन प्रधान सचिव एम एल तयाल और यूपीएसएसी के सदस्य छत्तर सिंह के अलावा वर्तमान आईएएस अधिकारी एसएस ढिल्लन के परिसर की भी तलाशी ली है।

सीबीआई के प्रवक्ता आर के गौर ने बताया, गुड़गांव में किसानों से जमीन की खरीदारी में कथित अनियमितता के मामले में जारी जांच के तहत सीबीआई ने रोहतक, गुड़गांव, पंचकूला और दिल्ली में 20 स्थानों पर छापेमारी की।

एजेंसी ने इस मामले में पिछले साल सितंबर में मामला दर्ज किया था। आरोप है कि 27 अगस्त 2004 से 24 अगस्त 2007 के बीच निजी बिल्डरों ने हरियाणा सरकार के अज्ञात अधिकारियों की मिलीभगत से मानेसर, नौरंगपुर और लखनौला के किसानों और अन्य भूस्वामियों से लगभग 400 एकड़ जमीन बेहद कम दाम में खरीदी। इसके लिए उन्हें सरकारी अधिग्रहण का डर दिखाया गया था।

आरोप है कि इस प्रक्रिया में पहले तो हरियाणा सरकार ने गुड़गांव जिले के गांव मानेसर, नौरंगपुर और लखनौला में औद्योगिक मॉडल टाउनशिप की स्थापना के लिए 912 एकड़ जमीन के अधिग्रहण के लिए भूमि अधिग्रहण कानून के तहत अधिसूचना जारी की थी। लेकिन बाद में निजी बिल्डरों ने भूस्वामियों को सरकार द्वारा सस्ती दर पर अधिग्रहण का डर दिखाकर कथित तौर पर उनसे जमीन हथिया ली।

आरोप है कि सक्षम प्राधिकरण यानी उद्योग निदेशालय ने 24 अगस्त, 2007 को इस भूमि को अधिग्रहण प्रक्रिया से बाहर कर दिया। आरोप है कि भूमि को अधिग्रहण प्रक्रिया से बाहर करना सरकारी नीति का उल्लंघन है और यह कदम वास्तविक भूमालिकों के बजाए बिल्डरों, उनकी कंपनियों और एजेंटों के पक्ष में है।

सीबीआई द्वारा दर्ज प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि इस तरह लगभग 400 एकड़ भूमि जिसकी बाजार में उस वक्त कीमत प्रति एकड़ चार करोड़ ऱ से अधिक थी। इस तरह, कुल मिलाकर इसकी कीमत लगभग 1,600 करोड़ थी उसे निजी बिल्डरों और अन्य लोगों ने भोलेभाले भूमालिकों से कथित तौर पर महज 100 करोड़ ऱ में खरीद लिया। इसमें आरोप लगाया गया है कि इस तरह गुड़गांव के गांव मानेसर, नौरंगपुर और लखनौला के भूमालिकों को 1,500 करोड़ का घाटा हुआ है।

Share With:
Rate This Article