Viyatnam-Mh1-Mhone

भारत-वियतनाम के बीच हुए 12 समझौतों के बारे में पढ़ें यहां

चीन दौरे से पहले पीएम मोदी का वियतनाम दौरा काफी अहम है। चीन और भारत के बीच बढ़ती कड़वाहट के बीच पीएम मोदी जी-20 सम्मेलन में हिस्सा लेने आए हैं। शनिवार सुबह मोदी वियतनाम पहुंचे और पीएम से मिले। वहां उनका भव्य स्वागत हुआ।

शुक्रवार को रवाना होने से पहले मोदी ने इस दौरे से काफी उम्मीदें जताई और कहा कि समझौतों से दोनों देशों के रिश्तों में सुधार होगा। वियतनाम और भारत के बीच आज 12 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए।15 साल बाद भारत के कोई प्रधानमंत्री वियतनाम का दौरा कर रहे हैं। इससे पहले अटल बिहारी वाजपेयी ने वियतनाम का दौरा किया था। मोदी ने बीते दिनों फेसबुक पोस्ट पर लिखा कि इस दौरे के दौरान दोनों देश के बीच कई आर्थिक समझौते होंगे।

भारत और वियतनाम ने अपने सामरिक संबंधों को और मजबूत बनाने का संकेत देते हुए रक्षा, आईटी, अंतरिक्ष, दोहरे कराधान से बचाव और मालवाहक पोतों संबंधी वाणिज्यिक नौवहन सूचना साक्षा करने समेत विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े 12 समक्षौतों पर आज हस्ताक्षर किए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वियतनाम में उनके समकक्ष न्गुयेन शुयान फुक की मौजूदगी में दोनों पक्षों के अधिकारियों ने यहां समक्षौतों पर हस्ताक्षर किए। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने टवीट किया, मित्रता के लिए 12 समक्षौते। भारत और वियतनाम ने सामरिक साक्षेदारी को और मजबूत करने के लिए एक दर्जन समक्षौतों पर हस्ताक्षर किए।

वियतनाम ने हवाई एवं रक्षा संबंधी उत्पादन में गहरी रचि दिखाई है। भारत की एल एंड टी वियतनाम के तटरक्षक बल के लिए उच्च गति वाली अपतटीय गश्ती नौकाओं का निर्माण करेगी। इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षा मामलों में सहयोग के कार्यक्रम संबंधी एक समक्षौते पर हस्ताक्षर किए गए।

भारतीय नौसेना एवं वियतनाम की नौसेना मालवाहक पोतों संबंधी वाणिज्यिक नौवहन (व्हाइट शिपिंग) सूचना के आदान प्रदान में सहयोग करेंगी। इस दौरान जिन समक्षौतों पर हस्ताक्षर किए गए, उनमें शांतिपूर्ण उददेश्यों के लिए अंतरिक्ष के उपयोग एवं खोज संबंधी समक्षौते, स्वास्थ्य सहयोग, आईटी सहयोग, साइबर सुरक्षा, दोहरे कराधान से बचाव संबंधी समक्षौते और भारत में नौका निर्माण, डिजाइन, यंत्र आपूर्ति एवं तकनीक हस्तांतरण संबंधी समक्षौते शामिल हैं।

इसके अलावा वियतनामीज अकेडमी ऑफ सोशल साइंसेस और विश्व मामलों की भारतीय परिषद के बीच एक समक्षौता पत्र, मानकों की आपसी मान्यता के लिए बीआईएस और एसटीएएमईक्यू के बीच समक्षौता पत्र, उन्नत आईटी प्रशिक्षण के लिए स्थायी आईटी बुनियादी सुविधाओं की स्थापना संबंधी समक्षौते और वर्ष 2017 को मित्रता वर्ष के तौर पर मनाने के लिए भारत एवं वियतनाम के बीच प्रोटोकॉल पर भी हस्ताक्षर किए गए।

Share With:
Rate This Article