Sushma-Sawraj-Mh1-Mhone

सुषमा स्वराज ने प्रख्यात नृत्यांगना को मदद की पेशकश की

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मशहूर कथक, भरतनाट्यम और कथकली नृत्यांगना तारा बालगोपाल की हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया है। 81 वर्षीय तारा बालगोपाल बेहद गरीबी के दौर से गुजर रही हैं। एक समय वह भी था जब उनके सम्मान में भारत सरकार ने डाक टिकट जारी किया था और आज वह दूसरों पर आश्रित हैं।

एक व्यक्ति ने ट्वीटर के जरिए यह बात विदेश मंत्री सुषमा स्वराज तक पहुंचाई क्योंकि वह सोशल नेटवर्किंग साइट पर उसव्यक्ति ने ट्वीट किया कि मैडम मुझे नहीं पता कि आपको इस बात से कितना फर्क पड़ेगा लेकिन फिर मैं कहना चाहूंगा कि तारा बालगोपाल को आपके सहयोग की जरूरत है

सुषमा ने तत्काल ट्वीट का जवाब देते हुए कहा कि मैं तारा बालगोपाल से संपर्क करूंगी और उनकी मदद करूंगी। मेरी जानकारी में यह बात लाने के लिए धन्यवाद। सुषमा ने कहा कि मैंने दिल्ली निगम के सुभाष आर्या और पूर्व मेयर से उनसे बात करने को कहा था। हम उनका ख्याल रखेंगे। आर्य न बताया कि हम आधार कार्ड बनने के बाद उनको पेंशन देंगे।

तारा बालगोपाल दिल्ली के जर्जर हो चुके मकान में अकेले ही बदहाल और एकाकी जीवन जी रही हैं। उन्होंने 1960 में संसद में नृत्य का हुनर दिखाया था। भारत सरकार ने 1962 में उनके नाम पर एक रुपए का डाक टिकट भी जारी किया था। इसके अलावा वह दिल्ली विश्वविद्यालय के राजधानी कॉलेज में अंग्रेजी में रीडर के पद पर कार्यरत थी। सेवानिवृत्ति के बाद विश्वविद्यालय ने उनके बकाया भुगतान नहीं किया। 2010 में पति के निधन के बाद वह तन्हा जिंदगी गुजार रही हैं। उनका कोई भी आगे पीछे नही है तथा सेवानिवृत्त के बाद से उन्हें पेंशन भी नही मिली।

Share With:
Rate This Article