Court-Mh1-Mhone

बेटी से आठ साल तक दुष्कर्म करने वाले पिता पर कोर्ट ने चलाई सजा की तलवार

गंभीर अपराध के मामलों में कोर्ट को सजा की तलवार चलाने में झिझकना नहीं चाहिये। यह टिप्पणी सौतेली बेटी से लगातार आठ साल तक दुष्कर्म के दोषी को आजीवन कारावास की सजा सुनाते हुये विशेष अदालत ने की है।

अदालत ने पीड़िता की फरियाद पर दोषी को उम्रकैद की सजा सुनाई है। पीड़िता ने खुद अपने सौतेले पिता के लिये आजीवन कारावास की मांग की थी। यह शख्स पीड़िता से तब से दुष्कर्म कर रहा था जब वह नाबालिग थी। इससे उसकी दो संतानें भी पैदा हुई।

पटियाला हाउस अदालत ने टैक्सी चालक को सौतेली बेटी से लगातार दुष्कर्म दुष्कर्म का दोषी ठहराते हुये आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। अदालत ने इस मामले को दुर्लभतम श्रेणी में रखा है।

अदालत ने रावत को दुष्कर्म संबंधी दो धाराओं व धमकी देने संबंधी धारा में दोषी मानते हुये सजा सुनाई है। अदालत ने रावत पर 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माने की राशि में से 50 फीसदी राशि पीड़िता को मुआवजे के तौर पर देने का निर्देश दिया है।

पीड़िता को अपने दो बच्चों की देखभाल करनी है इसके मद्देनजर अदालत ने उसे उचित मुआवजा देने का निर्देश दिल्ली विधिक सेवा प्राधिकरण को दिया है।

Share With:
Rate This Article