Badal-Mh1-Mhone

पहली बार बोले बादल, क्यों किया चंडीगढ़ के अलग प्रशासक का विरोध?

मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि चंडीगढ़ पंजाब का अहम हिस्सा था और हमेशा रहेगा। राज्यों के पुनर्गठन कानून के मुताबिक हर पैतृक राज्य का उसकी राजधानी पर अधिकार रहा है। मगर चंडीगढ़ को पंजाब को न सौंपकर सूबे के साथ धक्केशाही की गई थी। मुख्यमंत्री बादल ने मंगलवार को लंबी हलके में संगत दर्शन के दौरान लोगों की मुश्किलें सुनीं।

प्रेसवार्ता के दौरान सीएम ने कहा कि जब तक चंडीगढ़ पंजाब को नहीं मिल जाता तब तक यहां के राज्यपाल को ही चंडीगढ़ का मुख्य प्रशासक बना रहने देना चाहिए। आप पर कटाक्ष करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अरविंद केजरीवाल हर फ्रंट पर फेल साबित हुए हैं।

दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार ने लोगों से किए वादों में से एक भी पूरा नहीं किया। उन्होंने कहा कि सतलुज-यमुना लिंक नहर के मुद्दे पर दिल्ली सरकार की ओर से पंजाब विरोधी स्टैंड इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण है। केजरीवाल से पंजाब और पंजाबियों के भले की आस करना बेकार है।

Share With:
Rate This Article