Janamashtami-Mh1-Mhone

52 साल बाद जन्माष्टमी पर अनूठा संयोग, पूरी होंगी सारी मनोकामनाएं

इस बार भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव का पावन त्योहार 52 साल बाद अनूठा संयोग लेकर आ रहा है, जब माह, तिथि वार और चंद्रमा की स्थिति वैसी बनी हुई है जैसी भगवान कृष्ण के जन्म के समय थी। पहले ऐसा योग वर्ष 1958 में बना था।

मान्यता है कि भगवान कृष्ण का जन्म भाद्र्रपद अष्टमी तिथि के रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। इस योग को बहुत शुभ माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि इस योग में भगवान की पूजा-अर्चना करने से विशेष फल मिलेगा और सारी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी।

Share With:
Rate This Article