Rio-Mh1-Mhone

‘हमारी बिटिया नेशनल खिलाड़ी थी, मुफ्त एडमिशन देकर मार दिया गया उसे’

पटियाला के सुसाइड करने वाली नेशनल खिलाड़ी पूजा के यूपी के गोंडा जिला निवासी परिजन अभी तक सदमे से उभरे नहीं हैं। गोंडा जिले के उमरी बेगमगंज थाना क्षेत्र के नौशहरा गांव के रहने वाले प्रभुनाथ चौहान की बेटी पूजा सारे गांव की लाडली थी। पूजा के चाचा सूर्यभान के मुताबिक उनकी बेटी की काबिलियत को देखते हुए पटियाला के खालसा कॉलेज प्रबंधन ने उसे मुफ्त में एडमिशन देने का झांसा दिया था।

घर में आत्महत्या करने वाली महिला खिलाड़ी पूजा चौहान का आज अंतिम संस्कार कर दिया गया, जिसमें कालेज की तरफ से कोई भी नहीं पहुंचा। वैसे तो कालेज प्रशासन द्वारा सोमवार को पूजा की मौत के शोक में छुट्टी का ऐलान जरूर किया गया है। वहीं पूजा की मां एक अफसर पैरों में गिर गई और बेटी के लिए इंसाफ की मांग करने लगी।

दूसरी ओर पूजा के पिता प्रभु चौहान ने ऐलान किया है कि अगर सोमवार तक पुलिस ने कोच गिल को गिरफ्तार न किया तो कालेज के गेट के आगे धरना दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पूजा चौहान की मौत के लिए कोच गिल सीधे तौर पर जिम्मेदार है ऐसे में उसको सजा जरूर मिलनी चाहिए। खालसा कॉलेज के प्रिंसीपल डा. धरमिंदर सिंह उभा भी मानते हैं कि नेशनल हैंडबॉल प्लेयर पूजा हॉस्टल और कॉलेज में एडमिशन न मिलने पर डिप्रेस हो गई थी। इस कारण उसने खुदकुशी की थी लेकिन वह मानने को तैयार नहीं कि कोच गिल की वजह से पूजा डिप्रेस हुई थी।

प्रिंसिपल ने कहा, केस में जांच कमेटी ही सच्चाई पता लगाएगी। घटना के बाद से ही फरार चल रहे कोच गिल का मोबाइल फोन बंद है। सूत्र बताते हैं कि वह कॉलेज प्रबंधकों के संपर्क में हैं। आरोपी कोच गिल के मामले में एसजीपीसी की पांच मेंबरी कमेटी को सोमवार को ही लेटर मिले हैं। टीम मंगलवार को कॉलेज पहुंचेगी। वीसी गुरमोहन सिंह ने बताया कि कोच गिल के साथ संपर्क नहीं हुआ है, उसे भी जांच में शामिल करेंगे।

Share With:
Rate This Article