Start-Up-Mh1-Mhone

चीन को टक्कर: दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप हब बना भारत

नया उद्यम खड़ा करने में दिल्ली-एनसीआर ने मुंबई को पीछे छोड़ दिया है। एसोचैम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, राजधानी और इसके आस-पास के क्षेत्र में 23 फीसदी स्टार्टअप शुरू हुए हैं। मुंबई में यह आंकड़ा 17 प्रतिशत है। केंद्र की मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया और स्टार्टअप इंडिया जैसी योजनाओं से इसे बढ़ावा मिला है।

भारत तीसरे नंबर पर : रिपोर्ट के अनुसार, भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप हब बन गया है। तकनीक आधारित स्टार्टअप्स के मामले में भारत अमेरिका और ब्रिटेन के बाद तीसरे नंबर पर है। कुल स्टार्टअप कंपनियों के मामले में भी भारत शीर्ष-5 देशों में शामिल है।

निवेश और चुनौतियां : एसोचैम के मुताबिक वर्ष 2014 में 179 स्टार्टअप्स में कुल 14,500 करोड़ रुपये का निवेश हुआ वहीं 2015 में 400 स्टार्टअप्स में 32 हजार करोड़ रुपये का निवेश आया। भारत में स्टार्टअप्स के सामने सबसे बड़ी चुनौती मुनाफा कमाना और लंबे समय तक सुचारू रूप से बिजनेस चलाना है। साथ ही कॉर्पोरेट टैक्स और ऋण पर ब्याज की दर भी अधिक है। इससे मुश्किलें आती हैं। हालांकि पांच वर्ष तक स्टार्टअप्स को कर में छूट दी गई है।

चीन से बराबरी : देश में सभी सेक्टर के कुल स्टार्टअप की संख्या 10 हजार है, जबकि पड़ोसी देश चीन में इतने ही स्टार्टअप हैं। वहीं, अमेरिका इस मामले में 83 हजार स्टार्टअप के साथ पहले नंबर पर है।

Share With:
Rate This Article