Court-Mh1-Mhone

कोयला घोटाले के आरोपी ने कहा, जज साहब जेल में ही रहने दें, तंगी है

‘जज साहब, मुझे जेल में ही रहने दीजिए। मैं आर्थिक बदहाली के ऐसे दौर से गुजर रहा हूं कि पैरवी के लिए एक वकील रखने की भी हैसियत नहीं है।’ कोयला घोटाले के कई मामलों में आरोपी पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता ने मंगलवार को अदालत में ये बातें कहकर सबको चौंका दिया।

पटियाला हाउस स्थित स्पेशल जज भरत पराशर की अदालत में आरोपी एचसी गुप्ता ने अर्जी दायर कर जमानत बॉन्ड वापस लेने की मांग की। अदालत ने इसे गंभीरता से लेते हुए उनसे इसका कारण पूछा।

गुप्ता ने बताया, ‘मैं जेल में रहकर सभी मामलों का सामना करना चाहता हूं। मेरी आर्थिक स्थिति बहुत खराब हो गई है।’

अदालत ने अपने आदेश में कहा कि आरोपी एच सी गुप्ता ने जमानत पर अपनी रिहाई के लिए पहले सौंपा गया निजी मुचलका वापस लेने के लिए आवेदन दिया है। आवेदन के साथ उस आवेदन को देने के पीछे के कारणों को स्पष्ट करने के लिए एक नोट भी संलग्न किया गया है।

अदालत ने यह भी कहा कि गुप्ता का कहना है कि वह अपने बचाव में किसी भी गवाह का परीक्षण नहीं करना चाहते हैं और जेल के भीतर से मुकदमे का सामना करना चाहते हैं। इस पर गुप्ता से उस आवेदन को देने के पीछे के कारणों के बारे में व्यापक पूछताछ की गई।

गुप्ता ने कहा कि वह वकील को रखने के लिए भी वित्तीय कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं। जब गुप्ता ने वकील को रखने में वित्तीय कठिनाइयों का सामना करने के बारे में अदालत को बताया तो अदालत ने उनसे कहा कि उन्हें नई दिल्ली विधिक सहायता सेवा प्राधिकरण से एक अधिवक्ता की सेवा प्रदान की जा सकती है। या फिर उनकी तरफ से न्याय मित्र नियुक्त किया जा सकता है।

न्यायमित्र लेने से मना किया
गुप्ता ने न्याय मित्र की सेवाएं लेने से मना कर दिया। इसके बाद अदालत ने उन्हें अपने आवेदन पर सोचने के लिए समय दिया और मामले की सुनवाई के लिए बुधवार की तारीख निर्धारित कर दी। इस बीच, सीबीआई ने कहा कि वह गुप्ता की याचिका पर जवाब देगी।

बचाव पक्ष में बयान दर्ज हो रहे
बचाव पक्ष के गवाह के बयान हो रहे हैं दर्जजिस मामले में मंगलवार को पूर्व कोयला सचिव अदालत में पेश हुए थे इस मामले में अभियोजन पक्ष के सभी गवाहों के बयान दर्ज होने के बाद बहरहाल बचाव पक्ष के गवाहों के बयान दर्ज होने की प्रक्रिया चल रही है।

Share With:
Rate This Article